हिंगलाज मंदिर शक्तिपीठ पाकिस्तान

पाकिस्तान में हिंगलाज माता का मंदिर जो है शक्तिपीठ

जब देवी सती हुई तब उनके शरीर के अंग 51 स्थानों पर गिरे और शक्तिपीठ बने | ऐसा ही एक शक्तिपीठ सरहद पार पाकिस्तान बलूचिस्तान में स्थित है | यहा सती का सिर गिरा था | इस शक्तिपीठ में मुस्लिम  सेवा भाव करते है और पाकिस्तान से कई हिन्दू भक्त दर्शन करने आते है |यहा के हिन्दुओ का यह असीम आस्था का केंद्र है |


पढ़े : चमत्कार को नमस्कार- देवी देवताओ के चमत्कारी मंदिर

पढ़े : हनुमान जी के पुत्र मकरध्वज के जन्म की कथा

हिंगलाज शक्तिपीठ पाकिस्तान

 

जनश्रुति है कि मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम भी यात्रा के लिए इस सिद्ध पीठ पर आए थे। हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान परशुराम के पिता महर्षि जमदग्रि ने यहां घोर तप किया था। उनके नाम पर आसाराम नामक स्थान अब भी यहां मौजूद है।


माता हिंगलाज मंदिर में पूजा-उपासना का बड़ा महत्व है। कहा जाता है कि इस प्रसिद्ध मंदिर में माता की पूजा करने को गुरु गोरखनाथ, गुरु नानक देव, दादा मखान जैसे महान आध्यात्मिक संत आ चुके हैं।

मंदिर का स्वरुप

हिंगलाज मंदिर पाकिस्तान

source : wikipedia

ऊंची पहाड़ी पर बना यह मंदिर  गुफा रूप में है। इस मंदिर में कोई दरवाजा नहीं। मंदिर की परिक्रमा भी गुफा के अन्दर से करनी पड़ती है |  मान्यता है कि माता हिंगलाज देवी यहां सुबह स्नान करने आती हैं।

यहां माता सती कोटटरी रूप में जबकि भगवान भोलेनाथ भीमलोचन भैरव रूप में प्रतिष्ठित हैं। माता हिंगलाज मंदिर परिसर में श्रीगणेश, कालिका माता की प्रतिमा के अलावा ब्रह्मकुंड और तीरकुंड आदि प्रसिद्ध तीर्थ हैं। इस आदि शक्ति की पूजा हिंदुओं द्वारा तो की ही जाती है इन्हें मुसलमान भी काफी सम्मान देते हैं।

कैसे जाये हिंगलाज मंदिर

पाकिस्तान के बलूचिस्तान राज्य में हिंगोल नदी के समीप हिंगलाज क्षेत्र में यह प्रसिद्ध शक्तिपीठ स्थापित है | कराची से छह-सात मील चलकर “हाव” नदी पड़ती है। यहीं से हिंगलाज की यात्रा शुरू होती है। यहीं शपथ ग्रहण की क्रिया सम्पन्न होती है |

हिंगोल नदी के किनारे से यात्री माता हिंगलाज देवी का गुणगान करते हुए चलते हैं।  पहाड़ो को पार करके भक्त हिंगलाज के मंदिर के करीब पहुंचते है | मार्ग में तीन मीठे पानी के कुए है जिसके पानी से यात्रीगण पाप मुक्त होकर पवित्र हो जाते है |

माता का चुल

इस मंदिर में एक विशेष मान्यता है जिसमे भक्त को दस फीट के अंगारों से भरी जमीन पर चलना पड़ता है , इसे माता का चुल नाम की प्रथा कहा जाता है | मान्यता है की जो इस चुल वाली प्रथा के अनुसार चलता है , माता उसकी सभी मनोकामनाओ की पूर्ति कर देती है | यह माता हिंगलाज का करिश्मा ही है की भक्त को इस अंगारों से कोई पीड़ा नही होती | हलाकि कई वर्षो से यह परम्परा बंद कर दी गयी है |

Other Similar Posts

नवरात्रि पूजा के उपाय राशि अनुसार , मिलेगी कृपा

चौथ माता का मंदिर बरवाड़ा

समुन्द्र मंथन की पौराणिक कथा

मैहर माता मंदिर शारदा देवी को समर्प्रित

भालू होते है देवी की आरती में शामिल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.