गुजरात के प्रसिद्ध मंदिर

गुजरात के प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर

गुजरात भारत के पश्चिम में स्तिथ राज्य है जहा शिव शंकर , कृष्ण भगवान और शक्तिपीठ के रूप में अम्बाजी विराजमान है | यह राज्य हिन्दू धर्म की द्रष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है | आइये आज जानते है गुजरात के मुख्य प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग : somnath jyotirling

12 ज्योतिर्लिंगों में से सबसे पहले सोमनाथ ज्योतिर्लिंग  का नाम आता है | यहा चन्द्र देवता ने भगवान शिवजी की घोर तपस्या कर अपने आपको को दक्ष के श्राप से मुक्त किया था | यह सागर किनारे बहुत ही भव्य शिव मंदिर है |

द्वारकाधीश मंदिर  : dwarkadhish krishna temple यह मंदिर भगवान कृष्ण को समर्प्रित है | कृष्ण ने बड़े होकर द्वारका धाम में ही अपना महल बनाकर रहने लग गये थे | आदि गुरु शंकराचार्य के द्वारा स्थापित भारत के चार धाम में से एक है यह द्वारका धाम |

खाटू श्याम  मंदिर सूरत : यह मंदिर श्याम सेवा संस्थान द्वारा सूरत में बनाया गया है | माना जाता है की बर्बरीक (श्याम बाबा ) का यह देश में सबसे भव्य मंदिर है | साथ ही सालासर बालाजी का विग्रह यहा लगाई गयी है |

अम्बा जी मंदिर : ambaji temple यह गुजरात में स्तिथ अति सुन्दर शक्तिपीठ है | यहा किसी मूर्ति या विग्रह की पूजा नही की जाती | यहा सिर्फ श्री यन्त्र की पूजा की जाती है |   इसे भी भक्त और पुजारी सीधी आँखों से नही देख सकते | नवरात्रि में यहा लाखो भक्त दर्शन करने आते है | यहा सोने का दान भारी मात्रा में दिया जाता है जिससे की मंदिर का शिखर पूर्ण स्वर्णमय हो जाये | पढ़े : अम्बा माता मंदिर के बारे में विस्तार से

अक्षरधाम मंदिर : यह गुजरात के भव्य मंदिरों में से एक है | यह गुजरात के गांधीनगर में मुख्य प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है | यहा भक्ति और वास्तुकला का अनुपम सामंजस्य है | मंदिर बहुत ही भव्य और विशाल  है जिसमे भगवान स्वामीनारायण और उनके अनुयायियों  की मुर्तिया लगाई गयी है | मंदिर परिसर में अति सुन्दर बाग़ और फव्वारे लगे हुए है जो असीम शांति देते है |

श्री कष्टभंजन हनुमान मंदिर :

kashtbhanjan hanuman temple यह हनुमान जी को समर्प्रित बहुत ही सुन्दर मंदिर भावनगर के सारंगपुर में है | इस मंदिर की मुख्य विशेष है की यहा शनि देव स्त्री रूप में हनुमान जी के चरणों में विराजमान है | ऐसी मान्यता है की अपने नाम के अनुरूप यहा हनुमान जी अपने भक्तो के सभी कष्टों को दूर करने में सहायक है |

पढ़े : कष्टभंजन हनुमान मंदिर

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग : यह भी भगवान शिव को समर्पित ज्योतिर्लिंग है | यह द्वारका से 17 मील की दुरी पर स्तिथ है | नागेश्वर का अर्थ है नाग देवताओ के ईश्वर जो महादेव है | यहा शिवजी ने अपने भक्त सुप्रिय की रक्षा दारुक राक्षस से की थी और अपना अंश इस शिवलिंग में छोड़ा था | पढ़े : नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा

Other Similar Posts

श्री कृष्ण जन्मभूमि मथुरा की महिमा और दर्शनीय स्थल

तीर्थराज प्रयाग की महिमा और दर्शनीय स्थल

हरिद्वार यात्रा में दर्शनीय स्थल और मंदिर

नासिक में देखने लायक धार्मिक दर्शनीय स्थल

उज्जैन के दर्शनीय स्थल और मंदिर

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *