चूड़ामणि देवी मंदिर – मान्यता है की इस मदिर में चोरी करने से होती है संतान प्राप्ति

चूड़ामणि देवी शक्तिपीठ मंदिर

Devi Chudamani Temple Uttarakhand History in Hindi : चोरी करना पाप बताया गया है पर आज हम आपके लिए एक ऐसे मंदिर को लेकर आये है , जहा चोरी करने से मनोकामना पूर्ण होती है | यह बात पढ़कर आप आश्चर्य में पड़ जायेंगे पर इस मंदिर के साथ यह परम्परा कई सालो से बनी हुई है | देव भूमि उत्तराखंड के रुड़की के चुड़ियाला गांव स्थित यह प्राचीन और अनोखा मंदिर सिद्धपीठ चूड़ामणि देवी का है | आइये जानते है की क्यों भक्त यहा चोरी करते है और इसके पीछे क्या रहस्य है |


पढ़े : देवी माँ का ऐसा मंदिर जहा पानी से पानी से दीपक जलता है

चोरी करो चमत्कार देखो मंदिर में

कैसे शुरू हुई मंदिर में चोरी करने की परम्परा

कई सदियों पहले यहा संतान विहीन राजा शिकार करने इस जंगल में आये थे | उन्हें यहा माँ की पिंडी के दर्शन हुए | राजा ने पिंडी को नमन कर पुत्र प्राप्ति की विनती की | माँ ने उनकी विनती स्वीकार कर ली । राजा को कुछ महीने बाद पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई और उन्होंने यहा माँ का भव्य मंदिर बनवाया |


पढ़े : अनोखा मंदिर जहा भक्त चढाते है माताजी को हथकड़ी

chudamani temple
चोरी करने की है मान्यता

इस मंदिर में पुत्र की चाह रखने वाले पति पत्नी आते है और माँ के सामने शीश झुकाते है | माता के चरणों में एक लकड़ी का गुड्डा रखा रहता है जिसे दम्पति को चुराना होता है | दर्शन करने के बाद दम्पति को इस गुड्डे को अपने साथ घर ले जाना होता है | पुत्र प्राप्ति होने के बाद दम्पति को अपने पुत्र के साथ यहा आकर भंडारा करना होता है और साथ ही लकड़ी का गुड्डा चढ़ाना होता है |

यह मंदिर भी कहलाता है शक्तिपीठ

chudamani shaktipeeth temple माँ सती के अंग और आभूषण जिस जिस जगह गिरे वहा शक्तिशाली शक्तिपीठो की स्थापना हुई है | मान्यता है की इस मंदिर की जगह पर माँ सती का चूड़ा गिरा था | अत: इस मंदिर का नाम चूड़ामणि देवी मंदिर रखा गया है | यह अति प्राचीन मंदिर श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र है | नवरात्रि पर यहा विशाल मेले का आयोजन किया जाता है |

बाबा बनखंडी की समाधी स्थली

माता चूड़ामणि अनन्य भक्त बाबा बनखंडी की मंदिर परिसर में ही समाधि स्थल बना हुआ है | इन्होने अपने जीवन के कई साल माँ की सेवा और भक्ति में बिताये थे | सन 1909 में उन्होंने इसी मंदिर में समाधी ली थी | यहा आने वाले श्रद्दालु यहा माथा टेकना नही भूलते है |

Other Similar Posts

चंद्रकेश्वर मंदिर- एक अनूठा मंदिर जहां पानी में समाएं हैं भगवान शिव, च्यवन ऋषि ने की थी स्थापना

काली माता मंदिर: एक ही दिन में मां काली यहां देती हैं 3 रूपों के दर्शन

भारत में माँ लक्ष्मी के प्रसिद्ध मंदिर

मैहर माता शारदा देवी का मंदिर , जहा होते है चमत्कार

शीतला माता का प्रसिद्ध मंदिर गुड़गांव

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *