इस मंदिर में अजीबो-गरीबो प्रथा , पुरषों को पहनने पड़ते है महिलाओ के कपडे

इस मंदिर में पुरषों को पहनने पड़ते है महिलाओ के कपडे

Es Mandir Me Pursho Ko Pahanne Padte Hai Mahilao Ke Kapde

भारत देश विभिन्नता वाला देश है और यहा के कई मंदिरों में अनोखे रीति रिवाज का कई सालो से चलन है | आस्था के इस धरातल पर देवी देवताओ के अलावा कई जानवरों को समर्प्रित मंदिर भी आप को दिख जायेंगे |  कही कुकुर देव का मंदिर है तो कही मतस्य देवी का मंदिर  |

महिलाओ के कपडे में पुरुष

मंदिरों में प्रसाद , दर्शन , चढ़ावा को लेकर भी कई अनोखी परम्पराए बनी हुई है | आज हम जिस अनोखे मंदिर की आपको बात बताने वाले है वहा पुरषों का मंदिर में प्रवेश निषेध है | यदि उन्हें मंदिर में दर्शन करने जाना है तो उन्हें महिलाओं की तरह पूरा सोलह श्रृंगार करना पड़ता है |

है ना हैरानी वाली बात पर यह सच्च है | केरल के कोल्‍लम ज़िले के श्री कोत्तानकुलांगरा मंदिर में यह अजीबो-गरीबो प्रथा कई सालो से चली आ रही है |

चाम्‍याविलक्‍कू त्‍योहार : Chamayavilakku Festival

इस मंदिर में प्रति वर्ष चाम्‍याविलक्‍कू त्‍योहार धूम धाम से मनाया जाता है की जिसमे हजारो श्रद्धालु भाग लेते है | पुरषों के महिलाओ की तरह तैयार होने के लिए रूम दिए जाते है | रूम में साडी , श्रंगार का सामान रखा रहता है | यहा पुरुष महिलाओ की तरह तैयार होकर ही मंदिर में दर्शन करने जाते है |

men in women cloth

पुरषों और महिलायों के अलावा ट्रांसजेंडर्स (किन्नर ) भी मंदिर में दर्शन करने जाते है |

 

गर्भगृह के ऊपर नही है छत

इस मंदिर की ख़ास बात यह है मुख्य मूर्ति जिस गर्भगृह में रखी हुई है , उसके ऊपर कोई छत या शिखर नही है | ऐसा ही शनि मंदिर – शिंगणापुर में शनि देवता की मूर्ति के साथ है |

एक किवदंती के अनुसार प्राचीन समय में कुछ लोग एक पत्‍थर पर नारियल फोड़ रहे थे इसी दौरान पत्‍थर से खून निकलने लग गया, जिस के बाद से यहां देवी की पूजा होने लगी।

Other Similar Posts

अनोखा मंदिर जहा भक्त चढाते है माताजी को हथकड़ी

अनोखा और एकमात्र मेंढक मंदिर – यहा होती है मेंढक की पूजा

अनोखा नागराज मंदिर – भक्त नही कर पाते यहा देवता के दर्शन

लक्ष्मी बीज मंत्र जाप विधि का प्रयोग कर प्रसन्न करे लक्ष्मी को

कोकिलावन शनिदेव मंदिर – कृष्ण ने कोयल बनकर शनि को दिए दर्शन

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *