काल भैरव मंदिर उज्जैन

उज्जैन का काल भैरव मंदिर

Kaal Bhairava Temple , Ujjain In Hindi

काशी के कोतवाल भैरव के देश भर में मंदिर है | काशी में भैरव के 8 मंदिर , नाकोडा के जैन मंदिर में भी ये विराजमान है | काल भैरव मंदिर भारत के उन चमत्कारी मंदिरों में से एक है जहाँ आँखों के सामने भक्त चमत्कार होते देखते है | यह चमत्कार है की उनके द्वारा चढ़ाई गयी मदिरा का पान खुद काल भैरव करते है | मंदिर में प्रवेश करते समय दाई तरफ मोक्षदायिनी शिप्रा नदी है | उज्जैन के दर्शनीय स्थल और मंदिर में काल भैरव का मंदिर विशेष स्थान रखता है  | महाकाल मंदिर के साथ साथ 84 महादेव इस नगरी में बसे हुए है | इस नगरी में आकर शिप्रा में कुम्भ स्नान करके महाकाल के फिर हरसिद्धि माता के फिर काल भैरव के दर्शन करना अति मंगलकारी है  |

kaal bhairav ujjain idol

आँखों के सामने मदिरापान करते काल भैरव की प्रतिमा :

इस मंदिर में लगी प्रतिमा आँखों के सामने ही मदिरापान कर जाती है | भक्तो  द्वारा चढ़ाई गयी मदिरा एक प्लेटनुमा प्याले में डाली जाती है और जैसे ही पंडित इसे भैरवजी के होठो  पर लगाते है और कुछ मंत्रोचार करते है  , यह देखते ही देखते गायब हो जाती है | यह सिर्फ एक भक्त की ही नही , मंदिर में आने वाले हजारो भक्तो की मदिरा  प्रसादी का आनंद लेते है | मंदिर के बाहर देशी विदेशी मदिरा की बहुत सारी सरकारी और गैर सरकारी दुकाने है |

किसने बनाया यह मंदिर :

कहते है इस मंदिर का निर्माण बहुत पुराना है जो राजा भद्रसेन द्वारा बनाया गया | पहले यह मंदिर सिर्फ तांत्रिको के लिए खुला था पर समय के साथ आम जनता के लिए भी मंदिर दर्शन के लिए खोल दिया गया है | रविवार को यहा भैरव भक्तो की अपार भीड़ होती है | पुरे उज्जैन में सिर्फ काम भैरव मंदिर के सामने ही मदिरा मिलती है |




कहते है चमत्कार को नमस्कार है और यह बात इस मंदिर में शत प्रतिशत लागु होती है | नास्तिक लोग भी यह करिश्मा देखकर आस्तिक बन जाते है |

कहाँ चली जाती है भैरव जी के चढ़ाई गयी मदिरा :

कुछ लोगो का मत है की यह भैरव स्वं पीते है और कुछ अन्धविश्वासी लोग इस पर यह तर्क देते है भैरव बाबा के द्वारा पी गयी मदिरा किसी नाले के माध्यम से बाहर निकल जाती है | अंग्रेजो के समय भी इस मंदिर के चारो तरफ खुदाई कराई गयी की आखिर मदिरा जाती कहाँ है | पर वे भी इस रहस्य का पता नही लगा पाए | इसे काल भैरव का चमत्कार मानकर खुद एक अंग्रेज अफसर ने इन्हे विदेशी मदिरा का पान करवाया |

अन्य धार्मिक लेख

काशी के कोतवाल के काशी नगरी में मंदिरो की जानकारी

नाकोडा भैरव जैन तीर्थ धाम की महिमा

कैसे करे शिव के पंचम अवतार भैरव जी की पूजा

भारत के सप्तपुरी नगर जिनका है विशेष धार्मिक महत्व

भैरव जी के मुख्य मंत्र जो देते है हर तरह की सफलता

भैरव रक्षा कवच – हर दिशा से रक्षा करते है सभी भैरव रूप

भैरव जी का सबसे चमत्कारी स्त्रोत – यम यम यक्ष रूपं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.