लाखामंडल शिवलिंग का चमत्कार

Lakhamandal Shivling in Uttrakhand in a Shiva temple with full of surprises

लाखामंडल शिवलिंग- कर देता है मरे हुए व्यक्ति को जीवित

लाखामंडल  का शिव मंदिर, एक ऐसी प्राचीन ऐतिहासिक धरोहर है जो हमें सौभाग्य से मिली है | यदि इस जगह का शुरू से ध्यान रखा जाता तो उत्तराखंड के चार धाम के साथ यह भी अत्यंत प्रसिद्ध होता | यह जगह कई सदियों तक जमीन में समाई रही और कुछ सालो बाद एक स्वप्न के बाद इसे खोद कर निकाला गया है | पढ़े : शिवलिंग के उत्पति की कहानी
लाखामंडल शिवलिंग चमत्कार

कहाँ और कैसा है यह मंदिर

यह मंदिर उत्तराखंड के देहरादून के पास  यमुनोत्री से निकलने वाली यमुना नदी के निकट सुन्दर और सपाट जगह पर बसा हुआ है | इसके चारो और सात ऊँची पहाड़ियां है जो इस स्थान की रक्षा करती हुई नजर आ रही है | मंदिर के बाहर दो द्वारपाल की मूर्तियाँ पहरा दे रही है | इसमे से एक द्वारपाल का हाथ कटा हुआ है , ऐसा क्यों है ? यह रहस्य बना हुआ है जिसका जवाब किसी के पास नही है | मुख्य द्वार पर शिव का वाहन नंदी पहरा दे रहे है |
पढ़े : गीता में लिखी है कलियुग से जुड़ी ये बातें, आज हो रहीं सच

एकमात्र शिवलिंग जिसमे दिखता है चेहरा

शिवलिंग में चेहरा यह जगह अभी कुछ सालो से ही लोगो की नजर में आई है | मान्यता है की महाभारत काल में पांडवो ने यहा के शिवलिंग स्थापित किये थे जो भूगर्भ में खो गये थे | यहा एक ऐसा शिवलिंग है जिसपर दूध और जल चढाने से आपको आपका चेहरा उस शिवलिंग में साफ दिखाई देता | संभवत यह एकमात्र दर्पण की तरह चेहरा दिखाने वाला शिवलिंग है |

कैसा आया लाखामंडल शिवलिंग नजर में

लाखामंडल शिव मंदिर स्थानीय लोगो के अनुसार एक बार एक संत ने सपने में देखा की लाखामंडल का शिवलिंग स्वयं को धरती में समाया हुआ बता रहा है और उसे निकालने के लिए बोल रहा है | साधू ने सपने में बताई हुई जगह जाकर लोगो के साथ उस जगह की खुदाई की | कुछ खुदाई के बाद उन्हें शिवलिंग नजर आने लगा | हर हर महादेव के जयकारे के साथ शिवलिंग को बाहर निकाला गया | फिर विद्वान पंडितों को बुलाकर पूजा पाठ मंत्रोचार के शिवलिंग की स्थापना और आराधना शुरू की गयी | यहा आस पास में अलग की तरह की भाषा में पत्थरो पर लिखा गया है | अब यहा दूर दूर से भक्त आने लगे है |
पढ़े : पुराणों से जाने भारत के सबसे बड़े दानवीर कौन है



मृत व्यक्ति को भी जीवित कर देता है ये शिवलिंग

ऐसी मान्यता है कि अगर किसी शव को इन द्वारपालों के सामने रखकर मंदिर के पुजारी उस पर पवित्र जल छिड़कें तो वह मृत व्यक्ति कुछ समय के लिए पुन: जीवित हो उठता है।

जीवित होने के बाद वह शिव का नाम  लेता है और उसे गंगाजल प्रदान किया जाता है। इस गंगाजल को पीकर उसकी आत्मा फिर उसके शरीर से निकल जाती है | ऐसा दावा कई विडियो और वेबसाइट कर रहे है |

महामंडलेश्वर शिवलिंग देता है संतान
महामंडलेश्वर शिवलिंग के विषय में एक रोचक चमत्कार यह भी है की , जो भी स्त्री, संतान प्राप्ति के उद्देश्य से महा शिवरात्रि की रात मंदिर के मुख्य द्वार पर बैठकर शिवालय के दीपक को एकटक निहारते (त्राटक करना ) हुए शिवमंत्र का जाप करती है, उसे एक साल के भीतर संतान सुख की प्राप्ति हो जाती है |

Other Similar Posts

शिवपञ्चाक्षरस्तोत्रं – श्री शिव पञ्चाक्षर स्तोत्रम्

विष्णु के सुदर्शन चक्र की कहानी

प्रदोष व्रत कथा विधि नियम से जुडी जानकारी

घर में रखे शिवलिंग की पूजा से जुड़े नियम

सावन सोमवार व्रत प्रसन्न करते है शिव शंकर को

हजारो शिवलिंगों का अभिषेक करती एक नदी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.