हिन्दू ही नहीं मुस्लिम भी करते है इस अद्भुत शिवलिंग की पूजा

हिन्दू मुस्लिम पूजते है इस शिवलिंग को

सनातन धर्म में शिव को सबसे बड़े देवता के रूप में पूजा जाता है |उन्हें परब्रह्म कहा जाता है | शिव की जन्म कथा पुराणों में अलग अलग है पर शिव को अजन्मा और अमर ही माना जाता है | देश में कई शिवलिंग ऐसे है जिनके अपने किस्से हैरत में डाल देते है | आज हम ऐसे ही एक शिवलिंग के बारे में बताएँगे जिसे हिन्दू मुस्लिम दोनों तरह के भक्त पूजते है |


पढ़े : भगवान शिव के मुख्य चमत्कारी मंत्र और जप विधि

पढ़े : चमत्कार को नमस्कार- देवी देवताओ के चमत्कारी मंदिर

shivling puja hindu muslim


कहाँ है ऐसा शिवलिंग

भगवान शिव का यह अनोखा शिवलिंग उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से 25 किमी दूर खजनी कस्‍बे के पास एक गांव सरया तिवारी में है | इस शिवलिंग को झारखंडी व नीलकंठ महादेव भी कहा जाता है।

पढ़े : काठगढ़ महादेव – शिव पार्वती के रूप का शिवलिंग

क्यों मुस्लिम पूजते है इस शिवलिंग को

स्थानीय लोगो के अनुसार ब महमूद गजनवी ने भारत पर आक्रमण किया था और पूरे देश के मंदिरों को लूटते हुए इस शिवालय तक पहुंचा । उसने अपने सैनिको से कहा की मंदिर को तहस नहस कर दे और शिवलिंग को उखाड़ दे | गजनवी की सेना ने भरखस प्रयास किया पर वे शिवलिंग को उखाड़ नही पाए | जब गजनवी को विफलता हाथ लगी तो उसमे जाते जाते इस शिवलिंग पर कलमा खुदवा दिया |कलाम मुस्लिम सम्प्रदाय ले पवित्र वाक्य को बोला जाता है |  ऐसा भी कहते है की उस समय बार बार शिवलिंग से रक्त की धार बहने लगी थी | शिवलिंग पर कलमा

हिन्दू भक्त इस शिवलिंग पर अपनी पूजा अर्चना करते रहे वही शिवलिंग पर कलमा लिखे होने के कारण  मुस्लिमो के मुख्य दिनों में मुस्लिम लोग  यहा पर अल्लाह की इबादत करने आते रहते है | यह शिवलिंग दोनों हिन्दू मुस्लिम के लिए सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल बना हुआ है | सावन मास जो शिव को अत्यंत प्रिय है , पर हजारो भक्त शिव शंकर के इस अद्भुत शिवलिंग के दर्शन करने दूर दूर से आते है |

शिवलिंग की उत्पति के बारे में बताया जाता है की यह स्वयम्भू है और अत्यंत प्राचीन काल से है |

Other Similar Posts

क्या शिवलिंग पर चढ़ा प्रसाद खाना चाहिए या नहीं 

पारद शिवलिंग का महत्व और पूजा करने के लाभ 

नाग वासुकी मंदिर प्रयाग , यहां दूर होता है कालसर्प योग का दोष

कमलनाथ महादेव मंदिर जहा शिव से पहले होती है रावण की पूजा

असली रुद्राक्ष की पहचान कैसे करे

सावन सोमवार व्रत से प्रसन्न होते है शिव शंकर

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.