झारखण्ड के रामगढ जिले में टूटी झरना मंदिर

झारखण्ड का टूटी झरना मंदिर

एक ऐसा शिवलिंग जिसका अभिषेक दिन रात  माँ गंगा करती है :

झारखण्ड के रामगढ जिले में स्थित एक अत्यंत  प्राचीन चमत्कारी  शिव मंदिर है जो देश भर में टूटी झरना मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है | इस मंदिर में शिव भक्तो की अपार भीड़ उमड़ती है | इस मंदिर की मुख्य विशेषता है की इस मंदिर में जो शिवलिंग है उसका अभिषेक लगातार माँ गंगा की धार से होता है | शिव पुराण में बताया गया है की शिव की जटाओ में गंगा का वास है और इस मंदिर में भी शिवलिंग का अभिषेक स्वयं माँ गंगा कर रही है | अत: इस रूप को देखने दूर दूर से भक्त इस मंदिर में चले आते है |

खुदाई में निकला यह मंदिर :

सन 1925 की बात है , इस इलाके में अंग्रेज अफसर पानी के लिए खुदाई करवा रहे थे | खुदाई के दौरान उनके आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा जब यह पूरा मंदिर ही खुदाई में निकल गया | मंदिर के अन्दर जाकर देखने पर उन्हें एक शिवलिंग दिखाई दिया जिसके ठीक ऊपर एक श्वेत रंग की गंगा माँ की प्रतिमा थी | गंगा माँ की प्रतिमा की नाभि से जल निकल कर दोनों हाथो की हथेलियों से शिवलिंग का अभिषेक होता है | यह जल उस मूर्ति में से कैसे निकल रहा है , आज तक पहेली बना हुआ है | इस चमत्कारी किस्से को सुनकर शिव भक्तो की अपार भीड़ अपने भोले बाबा के इस रूप के दर्शन करने दूर दूर से आती है |

इच्छापूर्ण करता है यह चमत्कारी जल :

लोगो की आस्था इस मंदिर में इतनी ज्यादा है की वे माँ गंगा के द्वारा स्नान कराये शिवलिंग के जल को अपने साथ अपने घर ले जाते है | इस मंदिर में भगवान् शिव के दर्शन करके अपनी इच्छाए प्रभु के समक्ष रखते है  |

दो चमत्कारी हैंडपंप भी है इस मंदिर परिसर में :

कुछ साल पहले मंदिर परिसर में गाँव वालो ने दो हैंडपंप पानी निकालने के लिए लगवाए | आश्चर्यचकित करने वाली बात यह है की बिना चलाये ही इन हेण्डपम्पो से पानी निकलता है | मंदिर परिसर के पास एक नदी बिलकुल सुखी हुई है पर इन हेण्डपम्पो से स्वतः ही पानी का निकलना पहेली बना हुआ है |
यह भी जरुर पढ़े :

क्यों पसंद है शिवजी को नशीली चीजे भांग और धतुरा

गोतमेश्वर महादेव मंदिर जहा मिलता है पापमुक्ति का सर्टिफिकेट

इस शिव मंदिर में पूजा करने से डरते है लोग

इस मंदिर ने चमत्कारी रूप से एक रात में बदल दी अपनी दिशा

पशुपति नाथ शिवलिंग नेपाल की महिमा

शिवजी ने क्यों किया भगवान विष्णु के पुत्रो का वध

बेटी दुर्गा ( जीजी बाई ) का मंदिर जहा भक्त चढाते है वस्त्र चप्पल और सेंडिल

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.