सोमवती अमावस्या की कहानी

Somvati Amawasya Fast Story and Its Important.

जो अमावस्या सोमवार के दिन आती है , उसे सोमवती अमावस्या का दिन कहा जाता है | यह बहुत दुर्लभ मावस है जिसके लिए पांडव जीवन भर तरसते रहे | इस दिन शिव पूजा पर पीपल पूजन  का विशेष महत्व  रहता है | सोमवती अमावस्या के दिन सुनी जाने वाली कहानी निचे दी जा रही है | जो भी सनातन प्रेमी इसे इस दिन सुनता या कहता है उसे अपार पूण्य की  प्राप्ति होती है |

पढ़े : सोमवती अमावस्या का महत्व और महिमा

सोमवती अमवस्या की कथा

सोमवती मावस की व्रत कथा कहानी

एक साहुकार था उसके सात बेटे ,बहु और एक बेटी थी । साहुकार के यहाँ एक जोगी भिक्षा मांगने आता था । वह जोगी बहुये से तो भिक्षा ले लेता था पर उनकी बेटी से भिक्षा नही लेता था | इसका कारण उस बेटी का अभागा होना बताता था । इस बात से दुखी वो कन्या बहुत कमजोर हो गयी |

बेटी ने यह दुखद वेदना अपनी माँ को बताई कि जोगी ने उसे मनहूस और अभागा बताया है |

अगले दिन जब जोगी फिर से भिक्षा मांगने आया तब माँ ने भिक्षा दी और अपनी कन्या के भाग्य जगाने का उपाय पूछा | जोगी ने बताया कि उपाय बहुत कठिन है | तब जोगी बोला ” कि सात समुद्र पार एक सोभा धोबन रहती है ।वह सोमवती  अमावस्या का व्रत करती है वो ही इसे सुहाग दे सकती है । अन्यथा जब इसकी शादी होगी, तब इसके पति को फेरों में सांप काट लेगा और ये विधवा हो जाएगी । इतना सुनना था कि वह उठी और अपने बेटों को ये बात बताई ,और साथ चलकर सोभा धोबन को ढूढने के लिए कहा । सबने एक-एककर मना कर दिया तो वह अपनी बेटी को लेकर चल पड़ी सोभा धोबन को ढूढने ।


                  चलते-चलते वे समद्र के किनारे तक आ पहुची ।और सोचने लगी की अब आगे कैसे चले , इतना विशाल समुद्र कैसे पार  करें । वहां एक बड़ का पेड़ था वही दोनों माँ-बेटी बैठ गई । उस पेड़ के ऊपर एक हंस का जोड़ा रहता था और नीचे पेड़ की जड़ में एक सांप रहता था । जब हंस का जोड़ा दाना चुगने जाता तो सांप हंस के बच्चो को खा जाता था ।हंस उसे देख नहीं पाते थे ।उस दिन भी सांप हंस के बच्चो को खाने के लिए पेड़ पर चढ  रहा था कि हंस के बच्चो की आवाज सुनकर माँ-बेटी ने देखा, कि सांप हंस के बच्चो को खाने जा रहा है तो उन्होंने सांप को मार दिया । शाम को जब हंस का जोड़ा आया तो उन्होंने माँ-बेटी को वहा बैठा पाया तो सोचा की ये ही मेरे बच्चो को मार देते है । जैसे ही वे उन माँ-बेटी को मारने को तैयार हुए कि पेड़ पर से बच्चो की आवाज सुनाई दी ।तो उन्हों ने देखा की हमारे बच्चे तो जिन्दा है तब बच्चो ने उन्हें सारी बात बताई कि कैसे माँ-बेटी ने उनकी जान बचाई ।हंस ने उन्हें धन्यवाद दिया और उनका यहाँ आने का कारण पूछा ।माँ ने सारी बात बताई और बोली कि हम यहां तक तो आ गए पर समझ में नही आ रहा की आगे कैसे जाये ।तब हंस बोले की आप हमारे ऊपर बैठ जाओ हम आपको समुद्र पार पहुचा देते है ।इस तरह दोनों समुद्र पार पहुच गई ।उसने सोभा धोबन का घर ढूंढ़ लिया ।अब वह सवेरे जल्दी उठकर सोभा धोबन के घर का सारा काम करने लगी खाना बनाना , झाड़ू – पोछा , पानी भरना कपड़े धोना ।सोभा धोबन के सात बेटे-बहु थे । उसकी बहुए बहुत काम  चोर थी काम को लेकर वे आपस में बहुत झगड़ा करती थी ।लेकिन इधर कुछ दिनों से सोभा धोबन देख रही थी कि वे सब बिना झगड़ा किये सारा काम कर लेती है ।एक दिन उसने बहुओ से पूछा कि क्या बात है आजकल तुम सब मिलकर ख़ुशी-ख़ुशी सारा काम कर लेती हो और झगड़ा भी नही करती हो ।


                  इस पर उसकी सब बहुओ ने मना कर दिया की हम तो बहुत दिनों से काम करते ही नहीं है तब उसने सोचा की जब मेरी बहुएँ काम नहीं करती तो फिर कौन हैं जो मेरे घर का काम करता है ।ये तो मालूम करना होगा ।दुसरे दिन वह सुबह जल्दी उठी और उसने देखा की , एक औरत और एक लड़की घर का सारा काम करके वापस जा रही है । तो उसने उन दोनों को रोका और पुछा “की तुम कौन हो और मेरे घर का काम क्यों कर रही हो “! तब साहुकारनी  ने बताया कि ये मेरी लड़की है लकिन इसके भाग्य में सुहाग नहीं है और तुम सोमवती अमावस्या का व्रत व पूजा करती हो ,एक तुम ही हो जो मेरी बेटी को सुहाग दे सकती हो ।इसीलिए हम तेरे घर का सारा काम करती है ।      
                इस पर सोभा धोबन ने कहा कि “ठीक है तुमने इतने दिन मेरे घर का काम किया है, मैं तेरी बेटी को सुहाग जरूर दूँगी ,जब तेरी बेटी की शादी तय हो जाये तो उसके पीले चावल समुद्र में डाल देना मैं शादी में पहुचं जाऊँगी ‘। दोनों माँ-बेटी अपने घर आ गई । जब लड़की की शादी तय हुई तो माँ ने समुद्र में पीले चावल डाल दिए ।
               सोभा धोबन जब अपने घर से रवाना होने लगी तो बोली की मेरे जाने के बाद यदि घर में कुछ भी टूटता-फूटता है उसे जैसा हो वैसा ही रहने देना मेरे आने तक ,तुम लोग कुछ भी मत करना ।अपने घर वालो को ये हिदायत देकर वह साहुकार की बेटी की शादी में शामिल होने के लिए रवाना हो गई ।
              जब साहुकार की बेटी के फेरें हो रहें थे तब सांप ने दुल्हे को डस (काट) लिया ।अब सब रोने-धोने लगे तब लड़की की माँ ने सोभा धोबन से कहा “कि आज के दिन के लिए मैंने तेरे यहाँ काम किया था ताकि तू मेरी बेटी को आज सुहाग दे सके “। सोभा धोबन ने कहा ” कि तू चिंता मत कर “।वह उठी दुल्हे के पास गई और अपनी मांग में से सिंदूर लिया , आँख में से काजल और छोटी अँगुली से मेहंदी ली व  दुल्हे के छिटे दिये और बोली कि ” आज तक मैंने जो सोमवती अमावस्या की उसका फल साहुकार की बेटी को जाना और आगे जो करू वह मेरे धोबी को जाना “।उसके ऐसे करते ही दुल्हा ठीक हो गया ।सब लोग बड़े खुश हो गये ।
             जब बारात विदा हो गई तो सोभा धोबन जाने लगी ,तब सबने कहा की अभी तो आपको विदा ही नही किया है अभी आप कैसे जा सकती है ।सोभा धोबन ने कहा कि मैं मेरे घर को ऐसे ही छोड़ कर आई थी।पता नही मेरे पीछे से वहा क्या हो रहा है ।आप विदा ही करना चाहते है तो मुझे एक मिट्टी का कलश देदो ।
            कलश लेकर वह घर के लिए रवाना हो गई ।रास्ते में सोमवती अमावस्या आई ,तो उसने कलश के 108 टुकड़े किए ,पीपल की पूजा की और परिक्रमा करके बोली ” भगवान आज से पहले जो अमावस्या की ,उसका फल साहुकार की बेटी को दिया ,आज जो मैंने अमावस्या की उसका फल मेरे पति को देना फिर  कलश के टुकड़ो को खड्डा खोदकर गाड दिया और  घर के लिए चल दी।उधर घर पर उसका धोबी मर गया ।सब धोबन का इन्तजार कर रहे ।क्योकि वो कह कर गई थी कि मेरे पीछे से तुम लोग कुछ भी मत करना । जब वह घर पहुची तो देखा की उसका धोबी मरा पड़ा है और सब लोग रो रहे है ।उसने कहा कि सब लोग चुप हो जाओ । वह अपने धोबी के पास आई और अपनी मांग में से सिंदूर लिया ,आँख में से काजल और छोटी अंगुली में से मेहँदी निकालकर छिटे दिये ,और बोली भगवान आज से पहले जो अमावस्या की उसका फल साहुकार की बेटी को दिया ,आज जो मैंने अमावस्या की उसका फल मेरे पति को देना ।ऐसा करते ही उसका पति उठकर बैठ गया ।इतने में ब्राह्मन आया और बोला जजमान अमावस्या का दान दो ,धोबन बोली की मैंने तो पीपल के पेड़ के पास गाड दी, वहा से निकाल लो ।ब्राह्मन ने वहा जाकर देखा तो सोने की 108 मोहरे हो गई ।पूर गावँ में ढिंढोरा पिटवा दिया कि सोमवती अमावस्या का व्रत ,पूजा करे व दान दे ।
           हे सोमवती माता जैसे आपने साहुकार की बेटी को सुहाग दिया और धोबी को जीवन दान दिया वैसे ही सबको देना ।कहते को सुनते को व हुंकारा  भरते को । घटती हो तो पूरी करे पूरी हो तो मान रखना भगवान ।

Other Similar Posts

मार्गशीर्ष अमावस्या का महत्व और व्रत विधि

मौनी अमावस्या का महत्व और महिमा

सोमवती अमावस्या के कारगर उपाय जो किस्मत चमका देंगे

अमावस्या पर इन 5 चीजों को दान करने से पूरी होती है हर इच्छा

पूर्णिमा और अमावस्या का चन्द्रमा से जुड़ा रहस्य

अमावस्या 2019 में कब आ रही है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.