राम से पहले रावण को इन वीरो ने किया था परास्त

रावण इन वीरो से भी हारा था

हम सभी जानते है की त्रेता युग में सबसे शक्तिशाली राजाओ में से एक था लंकापति रावण | उसकी दुर्गति श्री राम के हाथो होनी थी , इसी कारण उसने माँ सीता का अपहरण कर उसे लंका में कैद रखा | शिव का परम भक्त रावण अत्यंत शक्तिशाली योध्या था पर श्री राम से पहले भी वो कुछ महावीरो से परास्त हो चूका था  | आइये जाने किस किस ने रावण को युद्ध में हराया |


पढ़े : हिन्दू सनातन धर्म से जुडी पौराणिक कथाये और कहानियाँ

ram se pahle raavan ense hara tha

वानरराज बाली

सुग्रीव के भाई वानरराज बाली को यह वरदान प्राप्त था की वो जिससे भी युद्ध करेगा , उसकी आधी शक्ति बाली के पास आ जाएगी | ऐसे ही एक रावण के साथ  युद्ध में बाली ने उसे परास्त किया था |  उसने छः महीने तक रावण को अपनी बगल में दबा कर रखा | वो एक वानर था और रावण को श्री राम के हाथो ही मरना था , इसलिए उसने रावण की क्षमा प्राथना पर रिहा कर दिया | वह था हैहय वंश का राजा सहस्त्रार्जुन जिसे उसके पिता के नाम अर्थात कार्तेयवीर कहकर भी बुलाया जाता था |

राजा सहस्त्रार्जुन :

sahastrbahu ravan yudh राजा सहस्त्रार्जुन ऐसा महावीर राजा था जिसके हजारो हाथ थे | सहस्त्र संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है हजार | यह महिष्मति नामक राज्य का राजा था और एक बार विश्वविजय की लालसा में रावण इनके राज्य आ पहुंचा | उसने उस राज्य में नदी किनारे शिवलिंग की स्थापना की और पूजा पाठ करने लगा | नदी के दुसरे छोर पर


राजा सहस्त्रार्जुन अपनी रानियों के साथ समय बिता रहा था | रानियों के अनुरोध पर उसने अपनी बाजुओ की शक्ति दिखाने के लिए नदी का सम्पूर्ण प्रवाह रोक दिया |

यह देखकर रावण और सहस्त्रबाहु ने भयंकर युद्ध हुआ जिसमे रावण को हार का सामना करना पड़ा | सहस्त्रबाहु ने अपने हजारो हाथो  से रावण को जकड़ लिया |

थक हार कर रावण को माफ़ी मांगनी पड़ी और तब जाकर सहस्त्रार्जुन ने उसे रिहा किया |

Other Similar Posts

कमलनाथ महादेव मंदिर , झाडौल -शिव से पहले होती है रावण की पूजा

क्यों हनुमान ने नही मारा रावण को

क्या आप जानते है रावण के परिवार के बारे में

क्यों दिया राक्षस विभीषण ने राम का साथ

देवताओ के कहने पर सरस्वती ने दिलवाया राम को वनवास

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *