रावण राम के युद्ध में किसने दिया श्री राम को अपना रथ

रावण राम के युद्ध में किसने दिया श्री राम को अपना रथ

रामायण एक ऐसा महा ग्रंथ है, जिसके हर प्रसंग को राम भक्त जानने के जिज्ञासु होते है । रामायण कई राम भक्तो ने लिखी है जिसमे सबसे पहली रामायण स्वयं हनुमान ने लिखी थी | वाल्मीकि जी की रामायण जन जन तक पहुंचे , इस उद्देस्य से उन्होंने अपनी लिखी पर्वत पर रामायण को समुन्द्र में डुबो दिया | फिर कलियुग में तुलसी दास जी की रामायण अत्यंत प्रसिद्ध हुई | के कई किस्से तो लगभग हर किसी को पता ही है, लेकिन इस ग्रंथ की कुछ ऐसी बातें भी हैं, जो बहुत ही कम लोग जानते होंगे।


पढ़े : हिन्दू सनातन धर्म से जुडी पौराणिक कथाये और कहानियाँ

ram ko divy rath diya indra ne

युद्ध के लिए स्वर्ग के राजा इन्द्र ने दिया था श्रीराम को अपना रथ

रावण और भगवान श्रीराम की सेना के बीच घोर युद्ध चल रहा था। रावण अपनी राज्य लंका से सभी सुविधाओ के साथ युद्ध कर रहा था तो भगवान श्रीराम की सेना को सागर पार जाकर अपने सिमित सुविधाओ के साथ लड़ना पड़ रहा था । फिर भी राम की सेना असुरो पर भारी पड़ रही थी | भगवान श्री राम धरती पर खड़े होकर युद्ध कर रहे थे और रावण रथ पर खड़ा था।

यह दर्शय भगवान इन्द्र का मन उदास और विचलित हो गया | वे अपने दिव्य रथ के साथ श्री राम के पास पहुंचे और उनके प्रणाम कर विनती करने लगे की वे भी उनका रथ स्वीकार करे | श्री राम ने इंद्र के उस दिव्य रथ और उनके सारथी मातली को स्वीकार कर रथ पर आरुढ़ हो गये | दोनों रथो से दोनों महायोधाओ के बीच भयंकर युद्ध हुआ | युद्ध के अंतिम चरण में श्री राम ने रावण की नाभि में अमृत कलश को फोड़कर  उसे मुक्ति प्रदान कर अपनी विजय पूर्ण की |

Other Similar Posts

देवताओ के कहने पर सरस्वती ने दिलवाया राम को वनवास

चार लाइन में समाई है सम्पूर्ण रामायण पाठ का सार – एक श्लोकी रामायण

रामायण के सच्चे सबूत जो बताते है की रामायण घटी थी

हनुमान जी के पुत्र मकरध्वज के जन्म की कथा

क्यों भगवान शिव को पशुपति नाथ कहते है ?

 

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.