कैसे हुआ माँ काली का जन्म जाने कथा

कैसे हुआ महाकाली का अवतार

Incaration of Goddess Kali लिंग पुराण में आये प्रसंग के अनुसारएक बार एक बहुत ही शक्तिहाली दारुण नाम का असुर हुआ | उसके अत्याचार से सभी लोक कांपने लगे | उसे यह वरदान प्राप्त था की वो किसी स्त्री के हाथो ही मारा जा सकता है | देवी देवता ब्रह्मा जी के पास जाकर विनती करे की वे स्त्री रूप धारण करके दारुण का संहार करे | ब्रह्मा जी ने उनकी विनती मान ली और स्त्री रूप धारण करके उस असुर से युद्ध लड़ने लगे | पर उन्हें हार का सामना करना पड़ा |


पढ़े : हिन्दू सनातन धर्म से जुडी कथायेkaali avatar

ब्रह्मा जी फिर भगवान शिव की शरण में गये और उनसे उपाय पूछने लगे |तब महादेव ने गिरिजापुत्री को देखा और पार्वती जी ने अपनी लीला रची |


पार्वती जी ने अपना एक अंश शिव के शरीर में प्रविष्ट करवाया दिया | उस अंश ने नीलकंठ शिव के गले में पड़े हलाहल विष का पान शुरू कर दिया | शिव ने अपने तीसरे नेत्र से दैत्यों के संहार के लिए बाहर निकाला |

इस महाविशाल और महारुद्र काले रंग की स्त्री को देखकर वहा खड़े देवता भय से इधर उधर भागने लगे | उस काली के मस्तिस्क पर चन्द्र देवता विराजमान थे | एक हाथ में त्रिशूल | दुष्टों का संहार करने के लिए उत्पन्न हुई माँ कालिका |

पार्वती की आज्ञा पाकर उन्होंने  दारुण और उसकी सेना  से युद्ध कर पल भर में उसका  संहार कर दिया | पर काली का क्रोध शांत होने का नाम नही ले रहा था | तब शिव ने एक छोटे से बच्चे का रूप धारण कर काली के ममत्व को जगाया और उनका दूध पीकर उन्हें शांत किया |

Other Similar Posts

शिव और काली की कहानी – क्यों काली ने रखा शिव के ऊपर पैर

कोलकाता का चाइनीज काली मंदिर जहा प्रसाद में नुडल्स मोमोस बांटे जाते है

दुर्गा बीसा यंत्र की स्थापना विधि और मिलने वाले लाभ

इस मंदिर में बेटी की तरह पूजा होती है दुर्गा की – कहलाता है जीजी बाई का मंदिर

क्यों माँ दुर्गा ने शेर को चुना अपनी सवारी के रूप में

दुर्गा सप्तशती लिखी जा रही है अपने खून से

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.