जगन्नाथ की मूर्ति के भीतर दफ़्न है श्रीकृष्ण से जुड़ा एक राज

जगन्नाथ की मूर्ति से कृष्ण का सम्बन्ध

Jagannath Ki Murti Ka Krishna Se Sambandh : उड़ीसा में स्तिथ जगन्नाथ मंदिर भारत में वैष्णव भक्तो के लिए एक बहुत बड़ा आस्था का केंद्र है | इस मंदिर का सम्बन्ध विष्णु और उनके अवतार श्री कृष्ण से जुड़ा हुआ है | जगन्नाथ पुरी का मंदिर अपने दस से भी ज्यादा चमत्कारों के लिए जाना जाता है | यह भारत में हिन्दू धर्म के 4 धामों में से एक है । यहा लगी प्रतिमा के अन्दर भगवान श्री कृष्ण का दिल है जो कलियुग में एक लकड़ी के लट्टे का आकार ले चूका है | आइये जानते है इसके पीछे की लोक कथा : –


jagnnath ke krishna ka dil

पढ़े :– भगवान जगन्नाथ के मंदिर में है विश्व की सबसे बड़ी रसोई, 800 लोग बनाते है 56 तरह के भोग

कृष्ण का ह्रदय है जग्गनाथ की मूर्ति में

ऐसा माना जाता है की कृष्ण भगवान के ह्रदय में ब्रह्मा का वास है | जब श्री कृष्ण की मृत्यु हुई तब पांडवों ने उनके शरीर का दाह-संस्कार किया | अचरज वाली बात यह थी की कृष्ण का नश्वर शरीर आग में स्वाहा हो गया पर उनका ह्रदय जलता रहा | ईश्वर के आदेशानुसार पांडवो ने उनके उस जलते हुए ह्रदय को बहते जल में प्रवाहित कर दिया | जिसमे बाद में एक लट्ठे का रूप धारण कर लिया |

krishna dah sanskarयह लट्टा जगन्नाथ के परम भक्त राजा इन्द्रद्युम्न को मिला , और उन्होंने इसे जगन्नाथ की मूर्ति के भीतर स्थापित कर दिया | हर 12 साल में जगन्नाथ भगवान की मूर्ति बदली जाती है और नयी मूर्ति में इस लट्टे को रखा जाता है |


लट्टे से जुड़ा है विशेष नियम

इस लट्टे के साथ एक अत्यंत जरुरी नियम जुड़ा हुआ है | इसे देखना और छूना जानलेवा बताया जाता है | अत: जब मंदिर का पुजारी इसे पुरानी मूर्ति से नयी मूर्ति में स्थापित करता है तो उस समय उसे अपनी आँखों पर पट्टी बंधी रहती है और हाथ पर कपड़ा रहता है |

उड़ीसा सरकार द्वारा पूरे शहर की बिजली बाधित कर दी जाती है जिससे की इस लट्टे को कोई देख नही पाए |

Other Similar Posts

जगन्नाथ पुरी मंदिर उड़ीसा भारत का एक धाम

कृष्ण की प्रेमी मीरा बाई से जुडी मुख्य बाते जो आपको जाननी चाहिए

2018 में एकादशी व्रत कब कब है – शुक्ल और कृष्ण पक्ष एकादशी

धार्मिक नगरी द्वारका धाम में दर्शनीय मंदिर

गुरूवार के 6 कारगर उपाय करके प्रसन्न करे विष्णु को

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.