क्यों किया जाता है जल में गणेश विसर्जन

जल में गणेश विसर्जन के पीछे का रहस्य क्या है

What is the story behind the tradition of Ganesh Visarjan  जिस तरह हर व्रत का उद्यापन करके उसे सम्पन्न किया जाता है , उसी तरह गणेश चतुर्थी पर विराजित गणेश प्रतिमाओ का 10 दिन बाद अनंत चतुर्दशी के दिन समुन्द्र या नदियों में विसर्जन किया जाता है |


पढ़े : गणेश स्थापना से जुड़े नियम और जरूरी बातें

कुछ वेबसाइटो  पर इस गणपति विसर्जन के पीछे का कारण महाभारत की कथा से दिया गया है |

गणेश विसर्जन का कारण

उनके अनुसार त्रिकालदर्शी  श्री वेद व्यास ने महाभारत की कथा गणेश जी से व्यास पोथी जगह पर लिखवाई थी | इस कथा को लगातार लिखते हुए गजानंद को 10 दिन का समय लगा था |

बिना रुके इतने दिन तक कथा लिखते लिखते अंत में कथा समाप्ति पर श्री गणेश के शरीर का तापमान अत्यंत बढ़ गया |

गणेश की ऐसी हालत देखकर वेदव्यास जी उन्हें पास के सरोवर में ले गये और सरोवर के पानी में डुबकी दिलवाई | ऐसा करने से गणेश जी के शरीर का ताप कम हुआ और उन्हें अथाय ठंडक प्राप्त हुई |


तब से यह परम्परा बन गयी कि गणेश चतुर्थी पर स्थापित श्री गणेश का विसर्जन 10 दिन बाद जल में किया जायेगा |गणेश विसर्जन

जल में विलीन करने की शक्ति

विसर्जन का अर्थ है पूर्णता विलीन कर देना जिसके लिए जल से अच्छा कोई माध्यम नही है |

गणेश चतुर्थी पर भगवान गणेश की ऐसी प्रतिमा लगानी चाहिए जो विसर्जन पर जल में आसानी से विलीन हो जाये | ऐसी प्रतिमा के लिए आप हरियाली गणेश या मिट्टी के गणेश काम में ले |

ऐसी प्रतिमा ना लगाये – Don’t Establish Such Idols Which  hard to mix into water

ऐसी प्रतिमा को स्थापित ना करे जो विलीन नही हो सके | विलीन नही होने के कारण वे खंडित होकर इधर उधर भटकती फिरती है | ऐसी प्रतिमाये पूण्य की जगह दोष दिलवाती है |

हो सके तो ऐसी गणेश प्रतिमाये स्थापित करे जो विसर्जन के बाद पाने में रहने वाले जीवो द्वारा खाद्य हो | जैसे चावल या गेंहू के गणेश |

 

Other Similar Posts

मंदिर – इस एक मात्र मंदिर में इंसान के चेहरे में है श्रीगणेश की मूर्ति

भगवान श्री गणेश के 10 प्रसिद्ध मंदिर भारत में

गणेश जी को लगते है सबसे प्रिय ये भोग

खजराना मंदिर इन्दौर का गणेश मंदिर

गणेश चौथ की कथा और व्रत विधि

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.