भगवान गणेश से जुडी 8 कहानियाँ

गणेश जी से जुडी 8 मुख्य कथाये

बुद्धि के देवता और सबसे पहले पूजे जाने वाले पञ्च देवता में एक है भगवान श्री गणेश | भारत के सबसे बड़े त्यौहार दीपावली के दिन भी लक्ष्मी जी के साथ गणेश की पूजा विधि विधान से होती है | क्यों की समुन्द्र मंथन से निकली विष्णु प्रिय लक्ष्मी जी धन तो दे सकती है पर उससे सँभालने के लिए बुद्धि गणपति ही देते है | गणेश पुराण के अनुसार गणेश सबसे बड़े देवता है जिन्हें पाने के लिए भगवान शिव और पार्वती दोनों ने तपस्या की थी | तब कृष्ण के अवतार के रूप में गणेश जी का जन्म हुआ था | आज हम गणेश से जुडी मुख्य आठ (8 ) कहानियाँ बता रहे है |


गणेश कथाये और कहानियाँ

पहली कहानी :

गणेश के एकदंत बनने की कथा

आपने देखा होगा भगवान श्री गणेश की मूर्ति में एकदन्त आधा टुटा हुआ है | यह दांत कैसे टुटा , इसके पीछे पुराणों में अलग अलग कथाये बताई गयी है | कही लिखा हुआ है विष्णु के अवतार चिरंजीवी भगवान परशुराम जी ने इसे तोडा है | तो कही महाभारत काव्य को लिखने के लिए | कही यह भी लिखा है की कार्तिकेय ने खेल खेल में गणेश जी का दन्त तोड़ दिया था |


पढ़े विस्तार से पूरी कथा : कैसे बने गणेश जी एकदंत , कथा

दूसरी कहानी :

गणेश और तुलसी जी की कहानी

तुलसी जी और गणेश ने एक दुसरे को श्राप दे दिया जिससे तुलसी का विवाह एक असुर से तो गणेश जी का विवाह अकारण ही हो गया | तभी से तुलसी जी गणेश जी की पूजा में नही चढ़ाई जाती है |

पढ़े सम्पूर्ण कथा : क्यों गणेश जी के तुलसी नही चढ़ाई जाती है |

तीसरी कहानी 

गणेश ने किया कुबेर का घमंड चूर

एक बार धन के देवता कुबेर को अत्यंत घमंड हो गया | उन्होंने महा भोज आयोजित किया | गणेश जी को उन्हें सबक सिखाना था | इसलिए लम्बोदर गणेश ने कुबेर के सारे खजाने ही खा लिए |

पढ़े : कथा , कैसे गणेश ने कुबेर का घमंड दूर किया 

चौथी कहानी :

कैसे हुआ गणेश का विवाह – एक चूहे ने दिखाई चतुराई


गणेश पुराण के अनुसार भगवान गणेश के रूप के कारण उनका विवाह हो नही पा रहा था | वे और उनके मूषक इसी कारण चिढचिढ़े हो गये | जब भी कही विवाह होता उनका मूषक विवाह में खाद सामग्री कुतरना शुरू कर देता | तब ब्रह्मा जी एक युक्ति निकाली | आगे पढ़े विस्तार से |

कैसे हुआ गणेश जी का विवाह |

पांचवी कहानी :

गणेश को क्यों प्रिय है दूर्वा

गणेश ने बार बार अवतार लेकर देवी देवताओ और मनुष्यों की रक्षा की है | पर एक बार एक ऐसा असुर हुआ जिसे निगलने से गणेश जी तड़पने लगे | अब पढ़े पूरी कथा

कथा गणेश और दूर्वा की – क्यों गणेश जी को दूर्वा प्रिय है |

छठी कहानी : 

इस कारण गणेश और लक्ष्मी के साथ पूजे जाते है

गणेश और लक्ष्मी जी की पूजा दीपावली पर की जाती है | गणेश प्रथम पूज्य देवता है तो धन की देवी लक्ष्मी जी को माना गया है | व्यक्ति के पास धन के साथ बुद्धि होना भी जरुरी है , इसी कारण गणेश जी और लक्ष्मी जी की पूजा एक साथ की जाती है |

पढ़े कहानी : क्यों गणेश और लक्ष्मी की पूजा एक साथ की जाती है |

सातवी कहानी : 

क्यों गणेश को सबसे पहले पूजा जाता है |

बुद्धि के देवता ने अपने ज्ञान के बल पर छोटे से मूषक से सम्पूर्ण ब्रहमांड के साथ चक्कर लगा लिए थे | तब शिव ने इन्हे प्रथम पूज्य का वरदान दिया |

पढ़े : क्यों गणेश जी को प्रथम पूज्य देवता का वरदान मिला |

आठवी कहानी :

चंद्रमा को गणेश का श्राप

आपने देखा होगा की भगवान चन्द्र  हर दिन अलग अलग आकार के होते है | अमावस्या पर वे दिखाई नही देते तो पूर्णिमा पर पुरे दिखाई देते है | यह सब हुआ गणेश जी के चन्द्र देवता पर रुष्ट होने के कारण

जाने – क्यों गणेश ने चंद्रमा को श्राप दिया |

पढ़े : हिन्दू सनातन धर्म की कहानियाँ

Other Similar Posts

गणेश जी के पाँच चमत्कारी मंत्र

कलियुग में होगा गणेश का अवतार , कहलायेंगे धूम्रवर्ण

गणेश  स्तुति से जल्दी ही खुश होते है गजानंद

भगवान गणेश के सभी अवतार

 

 

 

 

 

2 comments

  • Hindi Short Stories

    bhagwan ganesh ko isiliye sabse pahle puja jata hai…shree ganesh ke bare men is tarah ki satik jankari shayad hi kisi aur website par uplabdh hogi… is tarah ke sanklan k liye bahut bahut dhanyawaad

  • Supriya prajapati

    I like these stories very much. Very nice stories. I love lord GANESHA. GANPATI BABA MOREYA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.