भगवान शिव बाघ की खाल क्यों पहनते है ?

क्यों भगवान शिव बाघ ( शेर ) की खाल धारण करे हुए दिखाई देते है ?

सभी देवी देवताओ में से भगवान शिव का पहनावा और जीने का ढंग सबसे अलग और विचित्र है | जहा अन्य देवी देवता सुन्दर आभूषण धारण किये दिखाई देते है वहा भगवान शिव बाघ की खाल लपेटे भस्म लगाये हुए रहते है |

इनके आभूषण नागो से होते है और सर पर गंगा और चंद्रमा वास करते है | उनके लम्बी जटाये है और महलों को छोड़ कर कैलाश पर्वत पर बर्फ में निवास करते है |

क्यों धारण किये शिव ने बाघ की खाल :

हम जितनी भी भोलेनाथ की तस्वीरे देखते है , अधिकांश सभी में वे बाघ की खाल लपेटे हुए या उस पर विराजमान होते है | इसी कारण शिव को बाघम्बर भी कहा जाता है | क्या आपने कभी सोचा है इसके पीछे क्या कारण है |

शिव पुराण में एक कथा के माध्यम से शिव और उनके पहनावे बाघ की खाल का सम्बन्ध आता है |

शिव पुराण की कथा जिसमे शिव ने बाघ की खाल को धारण किया :

यह कथा शिव  महापुराण से है की एक बार भगवान शिव इस पृथ्वी पर भ्रमण पर आये तो इधर उधर फिरने लगे | फिरते फिरते वे एक ऋषियों के आश्रम के रास्ते से गुजर रहे थे | उस मार्ग में ऋषियों की पत्नियों ने शिवजी के दर्शन किये | भगवान शिव निर्वस्त्र ही थे | ऋषियों की पत्नियाँ  उनके इस रूप से मोहित हो गयी और उनका ध्यान भटकने लगा |
जब यह जानकारी ऋषियों तक पहुंची तो उन्होंने उस निर्वस्त्र व्यक्ति को सबक सिखाने की सोची |

शिव ने धारण की बाघ की खाल
उन्होंने आगे उसी मार्ग में एक गड्ढा खोद दिया और उसमे एक बाघ को बैठा दिया | उन्होंने सोचा की वो व्यक्ति इस गड्डे में गिर जायेगा और बाघ का शिकार बन जायेगा | उन्होंने जैसा सोचा था वैसा ही हुआ और भगवान शिव उस गड्डे में गिर गये |
पर कुछ देर बाद वे बाघ को मारकर उसकी चमड़ी शरीर पर लपेटे हुए गड्डे से बाहर निकले | साधू संत समझ गये की यह व्यक्ति को साधारण व्यक्ति नही है | उन्होंने उन्हें प्रणाम किया और उनका परिचय जाना |
तब उन्हें पता चला की यह तो देवो के देव महादेव है | शिवने तब से ही बाघ की खाल लप धारण करना शुरू कर दिया |

यह भी जरुर पढ़े :

क्यों देवी माँ दुर्गा की सवारी एक शेर है

क्यों माँ पार्वती ने शनि को को किया अपंग

भगवान शिव ने क्यों किया धारण अर्धनारेश्वर रूप

यह गाँव है मंदिरों का नगर …कदम कदम पर है मंदिर

घर के मंदिर में यह जरुर ध्यान रखे

भगवान शिव की पूजा करने में इन लोगो को क्यों लगता है डर

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.