भगवान कृष्ण को बंसी शिवजी ने दी

कृष्ण कथा बाँसुरी की

भगवान श्री कृष्णा को बंसी किसने दी ?
भगवान कृष्णा से जुडी बंसी के पीछे अलग अलग कथाये है जिनमे से के भगवान शिव से जुडी और अन्य बबूल के पेड़ से जुडी कथा मुख्य है |

भगवान शिव ने दी कृष्णा को बंसी :
जब कृष्ण ने द्वापर युग में जन्म लिया तब देवी देवता वेश बदल बदल कर उनसे मिलने गोकुल आने लगे | भगवान शंकर क्यों पीछे रहने वाले थे पर उन्हें भेट रूप में कुछ ऐसा देना था जो प्रभु कृष्ण अपने बच्चपन से लेकर अपनी उम्र तक अपने साथ रख सके |
शिवजी के पास दाधीच ऋषि की एक महाशक्तिशाली हड्डी पड़ी थी | दाधीच ऋषि वही थे जिन्होंने धर्म की रक्षा के लिए अपने शक्तिशाली शरीर की सभी हड्डिया दान कर दी थी | इन्ही हड्डियों से विश्वकर्मा ने
तीन धनुष क्रमशः शारंग,पिनाक और गांडीव और एक वज्र तैयार किया था | यह सभी अस्त्र शस्त्र बहुत ही शक्तिशाली थे |
शिवजी ने इसी हड्डी के उस टुकड़े को घिस कर एक अनुपम और मनोहर बंसी बनाई | जब शिवजी कृष्णा ने मिलने गोकुल पहुँचे तब उन्होंने बाल कृष्णा को यह बंसी भेट की | तभी से श्री कृष्ण इसे अपने पास इसे शिव आशीष की तरह हमेशा रखते है |

कृष्ण के बंसी थामने की अन्य कथा बबूल के पेड़ का प्रेम 
सनातन धर्म से जुड़े लेख यह भी जरुर पढ़े

कृष्ण ने क्यों पिया राधे का चरणामृत

संतान धर्म से जुडी कथाये

भारत के चमत्कारी मंदिर

मंदिरों में चरणामृत  का महत्व

किस पुष्प से करे किस देवी देवता की पूजा उपासना

पूजन से जुड़े मुख्य शब्द और अर्थ

जाने देवी देवताओ के वाहन

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *