चूहे ने करवाया था श्री गणेश का विवाह

सुनने में अजीब लगता है पर जी हाँ , यही सत्य है | प्रथम पूज्य श्री गणेश का विवाह एक चूहे ने ही करवाया था | पौराणिक कथा के माध्यम से जानते है इसके पीछे की पूरी कहानी |

गणेश जी के विवाह से जुडी पौराणिक कथा

गणेश जी का मुख गजरुपी होने से कोई भी कन्या उनसे विवाह करने में रूचि नही दिखाती थी | यह बात गणेश जी को चिंतित कर रही थी | वे इसी कारण उदास रहने लग गये थे | जब कोई विवाह में उन्हें आमंत्रित किया जाता तो यह उन्हें दर्द देता था |  यह दुःख  गणेश जी की सवारी चूहे से नही देखा जा रहा था | अत: जब भी कोई विवाह होना होता , चूहा वहा पहुँच जाता और मंडप को खोखला कर देता | विवाह में काम आने वाले वस्त्रो को काट देता |

गणेश जी का विवाह

अपनी इन परेशानियों को वे माँ पार्वती और शिव जी को बताते है | तब गणेश जी के माता पिता उन्हें ब्रह्मा जी के पास जाकर समाधान मांगने की सलाह देते है |

देवता ब्रह्मा जी के पास जाते है और गणेश जी और उनके चूहे के विवाह में डाले गये विध्नो की बात बताते है |

ये सारी बात सुनकर ब्रह्मा जी  अपनी सिद्धियों से दो कन्या को प्रकट किया जिनका नाम रिद्दी और सिद्धि था | ब्रह्मा जी ने भगवान गणेश को सुझाव दिया की वे इन दोनों कन्याओ से विवाह करे ले | इस तरह विवाह में कई विध्न आ जाते | देवता और मनुष्य के लिए यह गणेश जी का चूहा परेशानी बन गया था |


Other Posts Regards Lord Ganesha

गणेश जी को प्रिय लगते है ये भोग प्रसाद

भगवान गणेश के सभी अवतार

क्या गणेश जी भगवान कृष्ण के अवतार है ?

संकट चतुर्थी पर कैसे करे  श्री गणेश की पूजा

गणेश चतुर्थी पर कैसे करे गणेशजी की पूजा और मूर्ति स्थापना

क्यों गणेश जी को तुलसी नही चढ़ाई जाती ?

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.