नवरात्रि पूजा के उपाय राशि अनुसार , मिलेगी कृपा

Rashi Anusar Navratri Ke Upay

नवरात्रि के नौ दिनों में माँ दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की पूजा की जाती है। वैसे तो माता के किसी भी रूप की पूजा सदैव शुभ फलदायी होती है। लेकिन ज्योतिष शास्त्र में राशियों के अनुसार किसी विशेष माता स्वरुप की पूजा का प्रावधान है।


ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि इंसान अपनी राशि अनुसार देवी के किसी विशेष स्वरुप की पूजा करे तो उसे शीघ्र ही शुभ फल प्राप्त होता है। यहाँ हम आपको बताएँगे की राशि अनुसार किस देवी स्वरुप की और कैसे पूजा करनी चाहिए।

राशी अनुसार नवरात्रि के उपाय

नवरात्रि में राशि के अनुसार उपाय

पढ़े : नवग्रह बीज मंत्र के जप से खुश होंगे आपके ग्रह 

मेष: इस राशि के लोगों को स्कंद माता की विशेष उपासना करनी चाहिए। दुर्गा सप्तशती या दुर्गा चालीसा का पाठ करें। स्कंदमाता करुणामयी हैं, जो वात्सल्यता का भाव रखती हैं।

वृषभ: वृषभ राशि के लोगों को महागौरी स्वरूप की उपासना से विशेष फल प्राप्त होते हैं। ललिता सहस्र नाम का पाठ करें। अविवाहित कन्याओं को आराधना से उत्तम वर की प्राप्ति होती है।

मिथुन: इस राशि के लोगों को देवी-यंत्र स्थापित कर ब्रह्मचारिणी की उपासना करनी चाहिए। साथ ही तारा कवच का रोज पाठ करें। मां ब्रह्मचारिणी ज्ञान प्रदाता, विद्या के अवरोध दूर करती हैं।


कर्क: कर्क राशि के लोगों को शैलपुत्री की पूजा-उपासना करनी चाहिए। लक्ष्मी सहस्रनाम का पाठ करें। भगवती की वरद मुद्रा अभय दान प्रदान करती हैं।
नवरात्रि में राशी अनुसार उपाय
सिंह: सिंह राशि के लिए मां कूष्मांडा की साधना विशेष फल करने वाली है। दुर्गा मंत्रों का जाप करें। ऐसा माना जाता है कि देवी मां के हास्य मात्र से ही ब्रह्मांड की उत्पत्ति हुई। देवी बलि प्रिया हैं, अत: साधक नवरात्र की चतुर्थी को आसुरी प्रवृत्तियों यानि बुराइयों का बलिदान देवी चरणों में निवेदित करते हैं।

पढ़े : बंगाल में सबसे महंगा माँ दुर्गा का पंडाल , 15 करोड़ का पांडाल , 8 किलो पहना माँ ने सोना

कन्या: इस राशि के लोगों को ब्रह्मचारिणी का पूजन करना चाहिए। लक्ष्मी मंत्रों का साविधि जाप किया करें। ज्ञान प्रदान करती हुई विद्या मार्ग के अवरोधों को दूर करती हैं। विद्यार्थियों हेतु देवी की साधना फलदायी है।

तुला: तुला राशि के लोगों को  महागौरी की पूजा-आराधना से विशेष फल प्राप्त होते हैं। काली चालीसा या सप्तशती के प्रथम चरित्र का पाठ करें। जन-कल्याणकारी हैं। अविवाहित कन्याओं को आराधना से उत्तम वर की प्राप्ति होती है।

वृश्चिक: वृश्चिक राशि के लोगों को स्कंदमाता की उपासना श्रेष्ठ फल प्रदान करती है। दुर्गा सप्तशती का पाठ करें। वात्सल्य भाव रखती हैं।

धनु: इस राशिवालों को चंद्रघंटा की उपासना करें। संबंधित मंत्रों का यथाविधि अनुष्ठान करें। घंटा प्रतीक है उस ब्रह्मनाद का, जो साधक के भय एवं विघ्नों को अपनी ध्वनि से समूल नष्ट कर देता है।

मकर: मकर राशि के जातकों के लिए कालरात्रि की पूजा सर्वश्रेष्ठ मानी गई है। नर्वाण मंत्र का जाप करें। अंधकार में भक्तों का मार्गदर्शन और प्राकृतिक प्रकोप, अग्निकांड आदि का शमन करती हैं। शत्रु संहारक हैं।

कुंभ: कुंभ राशि वाले व्यक्तियों के लिए कालरात्रि की उपासना लाभदायक। देवी कवच का पाठ करें। अंधकार में भक्तों का मार्गदर्शन और प्राकृतिक प्रकोपों का शमन करती हैं। शत्रु संहारक।

मीन: मीन राशि के लोगों को चंद्रघंटा की उपासना करनी चाहिए। हरिद्रा की माला से यथासंभव बगलामुखी मंत्र का जाप करें। घंटा उस ब्रह्मनाद का प्रतीक है, जो साधक के भय एवं विघ्नों को अपनी ध्वनि से समूल नष्ट कर देता है।

पढ़े – ज्योतिष शास्त्र के लेख – ज्योतिषशास्त्र से सम्बंधित लेख और बाते

Other Similar Posts

जाने नवग्रह में राशि और उनके स्वामी ग्रह कौनसे है 

मंगल दोष के कारण और बचने के प्रभावी उपाय

शनि की साढ़े साती या ढैय्या के उपाय

राशि अनुसार धन प्राप्ति के उपाय

दीपावली पर लक्ष्मी गणेश पूजा विधि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.