किस ग्रह से कौनसी परेशानी आती है

किस ग्रह से कौनसी परेशानी का करना पड़ता है सामना

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार प्रत्येक जातक की कुंडली में अशुभ ग्रहों की स्थिति अलग-अलग और समय पर निर्भर रहती है। किस घडी में जातक का जन्म हुआ है उस आधार  पर उसकी कुंडली बनाई जाती है | कुंडली से तय होता है की कब किस ग्रह से आपको परेशानी का सामना करना पड़ेगा | आइये जानते है किस ग्रह के दुष्प्रभाव से किस तरह की दिक्कत आती है |

grah se aane wali preshaniyaan

सूर्य : सरकारी नौकरी या सरकारी कार्यों में परेशानी, सिर दर्द, नेत्र रोग, हृदय रोग, अस्थि रोग, चर्म रोग, पिता से अनबन आदि।

चंद्र : मानसिक परेशानियां,  मन का चंचल होना , नींद नही आना , मूत्र रोग, स्त्रियों को मासिक धर्म में परेशानिया , निमोनिया। पढ़े :चन्द्र दोष क्या हो और जाने निवारण के उपाय

पढ़े : ज्योतिषशास्त्र से सम्बंधित लेख और बाते

मंगल : अधिक क्रोध आना, रोड दुर्घटना का खतरा , रक्त विकार, कुष्ठ रोग, बवासीर, भाइयों से अनबन आदि।

पढ़े :मंगल दोष के कारण और उपाय

magal grah dosh

बुध : गले, नाक और कान के रोग, स्मृति रोग, व्यवसाय में हानि, मामा से अनबन आदि।

गुरु : धन व्यय, आय में कमी, विवाह में देरी, संतान में देरी, उदर विकार, गठिया, कब्ज, गुरु व देवता में अविश्वास आदि।

शुक्र : जीवन साथी के सुख में बाधा, प्रेम में असफलता, भौतिक सुखों में कमी व अरुचि, नपुंसकता, मधुमेह, धातु व मूत्र रोग आदि।

शनि : वायु विकार, लकवा, कैंसर, कुष्ठ रोग, मिर्गी, पैरों में दर्द, नौकरी में परेशानी आदि।

पढ़े :शनि की साढ़े साती या ढैय्या सताये तो करें यह उपाय

राहु : त्वचा सम्बन्धी रोग, कुष्ठ, मस्तिष्क रोग, भूत प्रेत वाधा, दादा से परेशानी आदि।

केतु : उपरी बाधा , भूत-प्रेत, काला जादू टोने से परेशानी, रक्त विकार, चेचक आदि।

कैसे करे राहु केतु के दोषों को दूर

Other Similar Posts

क्यों तामसिक प्याज और लहसुन व्रत में नही खाए जाते

रात 12 बजे मनाते हैं जन्मदिन तो हो जाएं सावधान, बुला रहे हैं दुर्भाग्य को

राशि अनुसार किस देवी देवता की पूजा करे

शिवलिंग पर किस चीज के अभिषेक से क्या फल प्राप्त होता है

रात 12 बजे मनाते हैं जन्मदिन तो हो जाएं सावधान, बुला रहे हैं दुर्भाग्य को

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *