अष्टधातु का महत्व और मिलने वाला लाभ

अष्टधातु का महत्व और लाभ

अष्ट का अर्थ है आठ अत: अष्ट धातु में आठ धातुओ को मिलाया जाता है | ये सभी आठ धातु अपना अपना महत्व रखती है और इनके मिश्रण से जो अष्ट धातु बनती है उसमे इन सभी का गुण पाया जाता है | प्राचीनकाल से ही इस मिश्र धातु का प्रयोग ऋषि मुनियों के समय से किया जा रहा है | अष्ट धातु का ज्योतिष और धार्मिक रूप से अत्यंत महत्व और शुभ मानी जाती है और इसके कई  फायदे है |

asht dhatu ka mahatav or fayde

पढ़े : ज्योतिषशास्त्र से सम्बंधित लेख और बाते

कौन कौनसी धातु होती है अष्ट धातु में ?

सोना, चाँदी, तांबा, रांगा, जस्ता, सीसा, लोहा, तथा पारा (पारद ) ये आठ धातुओ को मिलाकर बनाया जाता है अष्ट धातु को |

पढ़े : क्यों सोने को पैरो में नही पहनना चाहिए

कैसे प्रयोग किया जाता है ? 

अष्ट धातु को मिलाकर सनातन धर्म में देवी देवताओ की प्रतिमा का निर्माण किया जाता है | साथ ही ज्योतिष शास्त्र में इस धातु में रत्न धारण करवाया जाता है | राहु की दुर्दशा में दायिने हाथ में इस धातु का कड़ा पहनना शुभ माना जाता है |

अष्ट धातु के फायदे

*अष्ट धातु से निर्मित कड़ा या अंगूठी पहनने से मन शांत और चिंता मुक्त होता है | मानसिक तनाव दूर होते है और स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव बना रहता है | यह वात कफ आदि बीमारियों को दूर करता है |

* यह धातु दिमाग पर भी असर डालती है और व्यक्ति तुरंत निर्णय लेने में सक्षम हो जाता है |

* व्यापार में फायदा और शुभ हो इसके लिए भी इस धातु से निर्मित अंगूठी धारण की जाती है |

अष्ट धातु के कुछ नुकसान

अष्ट धातु में एक धातु परा (मर्करी ) होती है | इसे कैंसर का कारण माना जाता है | इसलिए आजकल अष्ट धातु से बने कड़े और अंगूठी का प्रयोग कम हो गया है | इसके समाधान के लिए आज कल  पंचधातु का प्रयोग किया जा रहा है |

Other Similar Posts

चन्द्र दोष के कारण और निवारण उपाय

राशि के अनुसार किस मंत्र का जप करने से चमक जाएगी किस्मत

ताम्बे की अंगूठी पहनने से मिलता है स्वास्थ्य लाभ

शनि की साढ़े साती या ढैय्या से बचाव के उपाय

नवग्रह शांति मंत्र के जप से कृपा करेंगे सभी ग्रह  

 

 

 

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.