केदारनाथ ज्योतिर्लिंग

केदारनाथ शिवजी ज्योतिर्लिंग

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग मन्दिर भारत के उत्तराखण्ड राज्य के रूद्रप्रयाग जिले केदार नमक चोटी पर स्तिथ है। हिन्दुओ के चार धाम में बद्रीनाथ के पास केदारनाथ को मुख्य स्थान प्राप्त है | प्रतिकूल जलवायु के कारण ही यह मंदिर अप्रैल से नवंबर महीने तक ही खुला रहता है |

कहा जाता है की इस मंदिर का निर्माण महाभारत काल में पत्‍थरों से कत्यूरी शैली में करवाया गया था | यह मंदिर बहूत ही प्राचीन और शिवधामो में सबसे पौराणिक माना जाता है | इस मंदिर का निर्माण सबसे पहले किसने करवाया इसका कोई ऐतिहासिक प्रमाण कही भी सही सही नहीं है | बार बार समय के साथ इस मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया गया है , वर्तमान मंदिर का कार्य आदि शंकराचार्य ने करवाया था |

पास में ही बद्रीनाथ , गंगोत्री और यमुनोत्री के    होने से भक्तो का बड़ा भरी सैलाब दोनों महा देवताओ केदार (शिव ) और बद्री (विष्णु ) के दर्शन करके दो महा धामों की यात्रा का सुख प्राप्त करते है |

इस मन्दिर की आयु के बारे में कोई ऐतिहासिक प्रमाण नहीं है, पर एक हजार वर्षों से केदारनाथ एक महत्वपूर्ण तीर्थयात्रा रहा है।

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग

kedarnath jyotirlinga

विस्मय करने वाला है यह मंदिर :

तीनो तरफ से ऊँचे ऊँचे पहाड़ो से घिरा केदारनाथ बड़े ही दुर्गम जगह पर स्तिथ है | यात्रा बहूत ही कठिन भरी है | ऐसे विशाल मंदिर का यहा पर इतने भव्यशाली रूप में निर्माण भक्तो को विस्मय में डाल देता है | इस मंदिर के दक्षिण हिस्से को मन्दाकिनी नदी का पानी छूके निकलता है |

केदारनाथ शिवलिंग की स्थापना की कथा :

शिवमहापुराण के अनुसार युगों युगों पूर्व भगवान् विष्णु के दो अवतार नर और नारायण ने इसी जगह भगवान् शिव की आराधना के लिए एक पार्थिव शिवलिंग का निर्माण कर शास्त्र अनुसार पूर्ण निष्ठा से पूजा अर्चना की | उन्ही के प्रभाव से यह भूमि पावन हो गयी | उनके कई सालो की तपस्या  से प्रसन्न होकर भगवान् शिव शंकर ने उन्हें दर्शन दिए और वर मांगने के लिए कहा |

नर नारायण के मन में सिर्फ शिवजी के दर्शन की अभिलाषा ही थी , फिर भी उन्होंने जन कल्याण के लिए शिवजी को इसी शिवलिंग में हमेशा के लिए वास करने का वरदान माँगा | भोले ने खुश होकर इस ज्योतिर्लिंग में भी वास कर लिया |

इस शिवलिंग के दर्शन से मनुष्य के सभी भय और दुखो का नाश हो जाता है , वह परम सुख पाता है और अंत में शिवपद में समा जाता है |

केदारनाथ और पांडवो से जुडी कथा – पंचकेदार की कहानी :

जब महाभारत का युद्ध समाप्त हुआ तब पांडवो ने बहूत भारी नरसंहार और उनके द्वारा किये गये अपनों की ही मृत्यु का शोक उन्हें बैचैन कर रहा था | वे इस भारी पाप के साथ जी नहीं पा रहे थे | कुछ साधुओ ने उन्हें यह भी बताया की उनपे आत्मकुल-नाश और गोत्र-हत्या का पाप चढ़ा हुआ है | यह बात जानकर वे ऋषि वेदव्यास से मुक्ति पाने और इस पाप के प्रभाव से दूर होने हेतु उपाय पूछने लगे |

वेदव्यास जी केदारघाटी में शिव आराधना को ही इसका उपाय बताया | उन्होंने कहा की भगवान् केदारनाथ के दर्शन से ही तुम इस पाप से मुक्त हो सकते हो |


यह सुनकर सभी पाण्डव दर्शन हेतु रवाना हो गये | सबसे पहले वो श्री विश्वनाथ भोलेनाथ का दर्शन करने गये पर शिव उनसे नाराज थे इसलिए उन्हें वहा दर्शन का सुख नही मिला | इसके बाद वो केदारघाटी के लिए रवाना हो गये | जब शिवजी ने उन्हें वहा आते देखा तो नाराज शिव फिर से गुप्तकाशी में जाकर अन्तर्धान हो गये |

कुछ समय बीतने के बाद शंकर ने एक भैंसे का रूप धारण किया और उन सभी की परीक्षा लेने के लिए एक दलदल में धँसने लगे | यह देखकर महाबली भीम से उसकी पुंछ पकड़ कर उन्हें दलदल में धँसने से बचाया | इसी बीच सभी करुणामई वंदना करके शिव ध्यान में व्यस्त हो गये | भोले से अब अपने भक्तो का यह दुःख देखा नहीं जा रहा था | अत: उन्होंने उसी भेंसे के पीठ से उन्हें दर्शन दिए और वही पर स्तिथ हो गये |

पांडवो से हर्ष पूर्ण पूजा अर्चना की और अपने पापो के नाश के लिए केदारनाथ से विनती की | शिवजी ने उनके सभी दोष समाप्त कर दिए |

उत्तराखण्ड के चार धाम में अन्य तीन धाम गंगोत्री , यमुनोत्री और बद्रीनाथ

बोलिए केदारनाथ भगवान् की जय |

अन्य ज्योतिर्लिंगों के बारे में भी जाने

सभी बारह शिव ज्योतिर्लिंग

शिवजी का सोमनाथ ज्योतिर्लिंग

शिवजी का अमरनाथ ज्योतिर्लिंग

भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग

महाकाल उज्जैन ज्योतिर्लिंग

श्री रामेश्ववर ज्योतिर्लिंग

वैदनाथ ज्योतिर्लिंग

श्री घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग

श्री मल्लिकार्जुन शिव ज्योतिर्लिंग

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग

ॐकारेश्वर अथवा अमलेश्वर

श्री काशी विश्वनाथ

श्री त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.