कैसे करे कपालभाती प्राणायाम जाने – विधि और लाभ

कपालभाती का अर्थ :

कपाल का अर्थ है मस्तिक के आगे का भाग और भाती का मतलब उजाला | अत: इस प्राणायाम का अर्थ हुआ की मस्तिक के अग्र भाग में प्रकाश का संचय करना | यह चेहरे पर सुन्दरता लाता है | यह तेज प्रवाह से साँस लेना और छोड़ने का प्राणायाम है |


kapalbhati_pranayama

photo courtesy : ndtv.com

कपालभाती से होने वाले लाभ :

कपालभाती से बहुत सारे मानसिक और शारीरिक लाभ होते है जो निचे दिए जा रहे है |

मोटापा करता है दूर : यदि किसी व्यक्ति को अपना वजन कम करना है तो उसे  कपालभाती प्राणायाम करना चाहिए |

विषैले तत्वों का निकलना : कपालभाती प्राणायाम द्वारा शरीर के ८० प्रतिशत प्रदुषण और विषैले तत्व शरीर से श्वसन के तरीके से निकल जाते है |

रक्त परिसंचरण होता है बेहतर : कपालभाती प्राणायाम  से शरीर के अन्दर रक्त सही तरीके से बहना फिर से शुरू हो जाता है |


पाचन क्रिया होती है सही : कपालभाती प्राणायाम से पाचन तंत्र सही कार्य शुरू कर देता है |

कैसे करे कपालभाती

सीधे किसी आसन में बैठ जाये फिर तीर्वता  से साँस को बहार छोड़ें | आप जैसे ही अपने पेट की मासपेशियों को ढीला छोड़ते हैं आप अपने आप ही साँस लेने लग जाते हैं|

विस्तार से आप इस विडियो में देख सकते है की कैसे यह किया जाता है |

किस किस को कपालभाती नही करना चाहिए

  • यदि आप किसी विशेष बड़े रोग से ग्रसित है तो आप किसी योग गुरु से पहले पूछ कर ही यह प्राणायाम करे |
  • हाइपरटेंशन के मरीजों को भी यह परामर्श से करना चाहिए
  • गर्भावस्था के दौरान या डेलिवरी के तुरंत बाद यह नही करना चाहिए
  • मासिक दिनों में भी महिलाये यह ना करे |


Other Health Regards Articles

One comment

  • I am 54 years old and performing duty in shifts since last 35 years.Due to shift duty I became lazy,faty and suffering from high blood pressure since last 10 years.Doctor advised CTD-L 12.5/50.My BP was maintaing 140/90 mm.But from month additional medicine also advised in evening.Kindly advise me which pranayam will be fit for me to maintain normal BP.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.