गिलोय के फायदे जानकार आप भी करने लगेंगे इसका सेवन

हर मर्ज की एक दवा – गिलोय | जी हां ऐसा चमत्कारी पौधा जो अपने अन्दर समेटे हुए है कईआयुर्वेदिक गुण | अमृत तुल्य इस औषधि में बहुत सी बीमारियों को जड़ से ख़त्म करने की क्षमता है | इसका वैज्ञानिक नाम टीनोस्पोरा कोर्डीफोलिया है जो स्वाइन फ्लू , चिकनगुनिया , मधुमेह आदि रोगों में बहुत फायदेमंद साबित होती है | यह मानव की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक है | गिलोय एक शामक औषधि है, जिसका ठीक तरह से प्रयोग शरीर में पैदा होने वाली वात, पित्त और कफ से होने वाली बीमारियों से छुटकारा दिला सकता है।

 Giloy Ke Chamtkari Fayde

Article about – Benefits of Giloy and help in many diseases .

नीम गिलोय – गिलोय की बेल का स्वभाव है कि यह जिस पेड़ पर चढ़ जाती है , उसके भी गुण अपने अन्दर समेत लेती है | इसी क्रम में यदि गिलोय की बेल नीम के पेड़ पर चढ़ जाये तो बहुत उत्तम गुणों वाली हो जाती है | और ऐसी गिलोय को नीम गिलोय कहा जाता है |

neem giloy

कैसा होता है गिलोय का स्वाद

आयुर्वेद में इसे गर्म तासीर कहा जाता है जो स्वाद में कडवी , तैलीय और झनझनात करने वाली होती है |

गिलोय के सेवन से होने वाले लाभ

आइये जाने गिलोय का रस किन किन रोगों में सहायक है |

आँखों के लिए – जिन व्यक्तियों की आँखों में कमजोरी होती है , उन्हें आंवले के रस में गिलोय का रस मिलाकर पीना चाहिए | इससे आँखों की रोशनी सही हो जाती है |

पाचन तंत्र को करता है मजबूत – खाना खाने के बाद यदि कोई व्यक्ति आंवले के चूर्ण के साथ गिलोय के रस का सेवन करता है तो उसे अपच की समस्या नही रहती | यह पाचन तंत्र को शक्ति देता है और रक्त में प्लेटलेट्स की मात्रा में सुधार लाता है |

मोटापा दूर करने में – यदि शाम को शहद के साथ गिलोय का रस पिया जाये तो मोटापा भी दूर किया जा सकता है |

सर्दी खांसी को करे दूर – वात रोग कफ खांसी और गले में खरास को दूर करने में भी गिलोय का रस बहुत फायदेमंद है |

याददाश्त बढ़ाने में  – यदि गिलोय चूर्ण को अश्वगंधा और शतावरी के साथ मिलाकर लिया जाए तो यह याददाश्त को तेज करता है |

रोग प्रतिरोधक क्षमता – रोग गिलोय का रस पीने से व्यक्ति की इम्युनिटी पॉवर बढती है जिससे आसानी से बीमारी शरीर में प्रवेश नही कर सकती है |

इसके अलावा यह सेक्स संबधी प्रॉब्लम , किडनी रोगों में भी सहायक है |

विशेष नोट – गिलोय के तने डंठल में ही आयुर्वेदिक गुण होते है | आप भूल कर भी इसके पत्तो को काम में ना ले | ज्यादा गिलोय का प्रयोग भी मुंह में छाले कर सकता है | इसे संतुलित मात्रा में ही काम में ले |

Other Similar Posts

तनाव दूर करने के प्रभावी उपाय

कैसे बढ़ाये अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता – इम्यून सिस्टम

भगवान धन्वंतरि कौन है और उनकी पूजा विधि और मंत्र से पाए अच्छा स्वास्थ्य

सिर्फ 5 दिन में मोटापे को कम कर देगा यह ज्यूस , अजमा कर देखे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.