अष्टांग योग क्या होता है और इसके फायदे

अष्टांग योग (Astang Yoga)

अष्टांग योग में आठ साधन या अंग आते है जो हमारे शरीर , मन और आत्मा को परमात्मा के करीब लेकर जाते है | यह हमारे ऋषि मुनियों की महान खोज है जिसके नियमो का सही पालन करने से जीवन में शांति और स्वास्थ्य में लाभ प्राप्त होता है |

astang yog

अष्टांग योग के 8 भाग :

  1. यम : शब्दों और कर्मो द्वारा किसी को नुकसान नही पहुँचाना , झूठ नही बोलना , जितनी जरुरत हो उतना ही संचय करना , चोरी नही करना |
  2. नियम : शरीर और मन को  शुद्ध करना , संतोष और संयम से जीवन जीना ,अनुशासन रखना , आत्मचिंतन करना और ईश्वर के प्रति श्रद्धा रखना |
  3. आसन : शरीर के विभिन्न अंगो पर नियंत्रण रखने के लिए जो क्रिया की जाये वो आसन है
  4. प्राणायाम : श्वसन द्वारा जीवन शक्ति को बढ़ाना ही प्राणायाम है |
  5. प्रात्याहार : हमारी चंचल इन्द्रियो को विषय भोग से हटाकर उन्हें अपने वश में करना ही  प्रात्याहार है |
  6. धारणा : मन को एकाग्रचित्त होकर अपने काबु में करना |
  7. ध्यान :  बाहरी कार्यों का त्याग करके आंतरिक भाग में डूब जाना ही ध्यान है |
  8. समाधि : आत्मा से रूबरू होना |

You May Like Other Articles Regards Health & Yoga

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.