अनुलोम विलोम प्राणायाम कैसे करे और इसके लाभ

प्राणायाम में कपालभाती की तरह यह भी एक सरल और चमत्कारी प्राणायाम है | इसे करते समय ध्यान रखे की आपका पेट खाली हो या फिर भोजन किये हुए तीन घंटे से ज्यादा समय हो गया हो | यह प्राणायाम श्वसन संबधी बीमारियों को दूर करता है |

पढ़े : प्राणायाम के मुख्य फायदे और स्वास्थ्य लाभ

पढ़े : योगासन करने से होने वाले लाभ

कैसे करे अनुलोम विलोम प्राणायाम

इस प्राणायाम की विधि निचे लिखी जा रही है या आप विडियो के माध्यम से भी समझ सकते है |

  1. ऐसी जगह बैठ जाये जहा प्राकृतिक हवा आती हो , बैठने के लिए आप सुखासन , पद्मसान या सिद्दासन काम में ले सकते है |
  2. फिर अपने दांये हाथ के अंगूठे से दांयी नासिका के छिद्र को बंद करके बांयी नासिका के छिद्र से सांस फेफड़ो में भरे |
  3. अब बांयी नासिका के छिद्र को बंद करे और साँसों को दांयी नासिका के छिद्र से बाहर निकाले
  4. यही क्रिया अब नासिका के छिद्रों को बदल कर दोहराए |
  5. ध्यान रहे जिस नाक के एक छिद्र से सांस ले रहे है , उसे बंद करके दुसरे छिद्र से सांस निकालनी है |
  6. यह क्रिया आप पहले 3 मिनिट तक करे फिर अभ्यास के साथ समय सीमा 10 मिनिट तक रख सकते है |

विडियो देखे – अनुलोम विलोम प्राणायाम का


You May Like Other Articles Regards Health & Yoga

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.