साल की सबसे बड़ी अमावस्या 2019 – मौनी और सोमवती मावस एक ही दिन

Mauni Aur Somvati Amawasya on 4 Feb 2019 – Imporatance and Upay in Hindi :
साल 2019 का माघ मास चल रहा है और इस मास में आने वाली अमावस्या मौनी अमावस्या कहलाती है | इस अमावस्या का शास्त्रों में अत्यंत महत्व बताया गया है | यह फरवरी 2019 में 4 फरवरी को आ रही है | खास बात यह है कि इस दिन सोमवार भी होने से यह सोमवती अमावस्या भी है | सोमवती अमावस्या और सर्वार्थ सिद्धि योग होने से इस दिन का महत्व काफी अधिक बढ़ गया है |

मौनी अमावस्या सोमवती मावस

होगा शाही स्नान प्रयागराज मे

प्रयागराज कुम्भ 2019 में मौनी अमावस्या का शाही स्नान रहेगा | अभी तक हर शाही स्नान में
त्रिवेणी संगम प्रयाग  पर करोड़ो भक्तो ने पावन डुबकी लगाई है | इस मास का स्नान कार्तिक मास की तरह अत्यंत पावन बताया गया है |

pavitra snan

मौन रहने का है दिन

माघी मावस (मौनी अमावस्या ) के दिन पवित्र नदियों में स्नान कर भगवान सूर्य देवता को जल से अर्ध्य देना चाहिए | इस दिन श्रद्दालुओ को मौन रहकर भगवान की पूजा अर्चना में दिन व्यतीत करना चाहिए | इस दिन किये गये दान पितरो को प्रसन्न करने वाले होते है |

मौनी अमावस्या 2019 शुभ मुहूर्त
यह अमावस्या 3 फरवरी को रात्रि 11:52 से शुरू होगी जो 5 फरवरी को  02:33 तक रहेगी |

सोमवती -मौनी अमावस्या के उपाय

  • इस अमावस्या पर पीपल के पेड़ और  तुलसी जी के पौधे को जल से अर्ध्य दे | पीपल के पेड़ की जड़ में पितरो के नाम से काले तिल चढाने चाहिए |
  • पवित्र नदियों में इस दिन किया गया स्नान पापनाशक होता है | यदि पवित्र नदियों तक नही जा सके तो नहाने के पाने में गंगा जल मिलाकर स्नान मंत्र बोलकर स्नान कर ले |
  • नहाने के बाद शुद्ध वस्त्र पहने | और सूर्य देवता को जल से अर्ध्य दे |
  • इस दिन सोमवती अमावस्या भी है अत: भगवान शिव की पूजा अर्चना का विशेष महत्व है | शिवालय में जाकर शिवलिंग पर दूध , धतुरा , भांग , शहद , अक्षत और गंगा जल से अभिषेक करे और शिव आरती करके मंगल कामनाये मांगे |
  • इस दिन पितरो के नाम से वस्त्र , अन्न का जरुरतमंदो और योग्य ब्राह्मणों को दान करे | इससे पितृ दोष दूर होते है और पितरो की कृपा की प्राप्ति होती है |
  • संध्या के समय पीपल के पेड़ के निचे घी का दीपक जलाये और तीन परिक्रमा करे पितरो की शांति के ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जप करे |

Other Similar Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.