रक्षा बंधन की थाली इन चीजो के बिना है अधूरी

राखी की थाली में जरुर रखे ये 8 चीजे

Important Items in Raksha Bandhan Thali 

श्रावण मास की पूर्णिमा को धूम धाम से भाई बहिन के प्रेम को समर्प्रित त्योहार रक्षा बंधन का मनाया जाता है | इस दिन बहिने अपने भाइयो को रक्षा सूत्र बांधकर उनके जीवन में सुख समृधि की कामना करती है | साथ ही भाइयो से अपनी रक्षा का वचन मांगती है | रक्षाबंधन को लेकर बहिने और भाई इसकी तैयारियों में कई दिन पहले से ही लग जाते है | रक्षा बंधन के दिन बहिने अपने भाइयो को राखी बांधने के लिए रक्षा बंधन की थाली सजाती है |


आइये जानते है की इस पूजा की थाली में कौनसी चीजे होना अत्यंत जरुरी है |

रक्षा बंधन थाली

1. कुमकुम -Red Pigment
रक्षाबंधन के दिन पूजा की थाली में सबसे पहली सामग्री जो होना अनिवार्य है, वह है कुमकुम यानी कि सिंदूर। हिन्दू धर्म में ऐसी मान्यता है कि किसी भी शुभ काम की शुरुआत कुमकुम का तिलक लगाकर ही की जानी चाहिए। भाई के माथे पर तिलक लगाते हुए बहन उसकी लंबी उम्र की कामना भी करती है।
2.अक्षत –  Rice
भाई की पूजा और आरती में अक्षत का होना शुभ माना जाता है | बिना चावल (अक्षत ) के पूजा पूर्ण नही मानी जाती | बहिनों को अपने भाई के तिलक लगाने के बाद उस तिलक पर कुछ अक्षत के दाने लगाने चाहिए |
3. नारियल – Coconut
नारियल भी पूजा का एक अभिन्न अंग है जिसे हम श्रीफल कहते है | यह देवी लक्ष्मी का फल कहलाता है | पूजा में थाली में इसे जरुर रखना चाहिए और राखी बांधने के बाद  इसे अपने भाइयो को देना चाहिए | इससे भाई के जीवन में सुख समृधि बनी रहती है ।


4. रक्षासूत्र (राखी) – Protection Thread
रक्षासूत्र बांधने से त्रिदोष शांत होते हैं। त्रिदोष यानी वात, पित्त और कफ। हमारे शरीर में कोई भी बीमारी इन दोषों से ही संबंधित होती है। रक्षा सूत्र कलाई पर बांधने से शरीर में इन तीनों का संतुलन बना रहता है। वैज्ञानिकों द्वारा सिद्ध भी किया गया है कि ये रक्षासूत्र का धागा बांधने से कलाई की नसों पर दबाव बनता है, जिससे ये तीनों दोष नियंत्रित रहते हैं।

5. मौली – Moli 

इसे कलावा धागा भी कहा जाता है जो लाल , केसरी और पीले रंग का होता है | यह तीनो अत्यंत शुभ रंग माने गये है | आज कल बाजारों में चांदी , सोने और तरह तरह की डिजाईन वाली राखियाँ आ रही है पर मोली बांधे बिना राखी अधूरी ही मानी जाती है | मौलि बांधने से त्रिदेवों और तीनों महादेवियों की कृपा प्राप्त होती है।
6. मिठाई – Sweets

rakhi 1रक्षासूत्र बांधने के बाद बहिन अपने भाइयो का मुंह मीठा करवाती है | मिठाई इस रिश्ते में मिठास भरने का कार्य करती है | हर शुभ कार्य में अपनी ख़ुशी प्रकट करने के लिए मिठाई खिलाने का रिवाज सदियों से चलता आया है | मिठाई खिलाते समय बहिन यही कामना करती है की कभी भी भाई बहिन के रिश्ते में कड़वाहट ना आये |
7. दीपक -Deepak

रक्षाबंधन की थाली में एक शुद्ध घी का दीपक भी जरुर रखे | राखी बांधने से पहले इसे प्रज्ज्वलित कर अपने भाई की आरती उतारे और उनके लिए मंगलकामना करे | दीपक जलाने से उस जगह की नकारात्मक शक्तियां दूर होती है और भाई बहिन के बीच प्रेम बढ़ता है |

8. पानी से भरा कलश – Kalash Having Water 

पूजा की थाली में एक ताम्बे का कलश भी रखे जिसमे शुद्ध जल हो | इसी जल के कुछ छींटे से कुमकुम से भिगोकर अपने भाई के माथे पर तिलक करना चाहिए | कलश में सभी 33 कोटि देवी देवताओ का वास बताया जाता है | इनकी कृपा से यह रिश्ता जीवन भर खिला रहता है |

भाई भी ध्यान रखे इन बातो का

भाइयो को अपने साथ एक रुमाल रखनी चाहिए | जब बहिन आपके तिलक लगाकर राखी बांधे तब भाइयो को अपने सिर पर रुमाल रखनी चाहिए |

Read – तिलक लगाने के बहुत फायदे और लाभ है , कैसे ?

इसके अलावा अपनी बहिनों को गिफ्ट में उनकी पसंद के वस्त्र , गहने ,नगदी या उनकी इच्छा की चीज देनी चाहिए | साथ ही जीवन भर अपनी बहिन की रक्षा और बुरे समय में उसका साथ देना वचन भी देना चाहिए |

Other Similar Posts

श्रावणी पूर्णिमा का महत्व | सावन की पूर्णिमा की महिमा

रक्षा बंधन पर शुभकामना सन्देश , मेसेज , शायरी

रक्षा बंधन की पौराणिक कहानी – माँ लक्ष्मी ने बांधी थी सबसे पहली राखी

राखी बांधने का शुभ मुहूर्त 26 अगस्त 2018

कनकधारा स्त्रोत का पाठ इस विधि से करे , माँ लक्ष्मी भर देगी तिजोरियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.