एकादशी के 8 चमत्कारी उपाय, जो करेंगे आपकी इच्छा पूरी

हिंदू पंचांग की ग्यारहवी तिथि को एकादशी कहते हैं। यह तिथि मास में दो बार आती है। पूर्णिमा के बाद और अमावस्या के बाद। यह पूजा के लिए  वैष्णव भक्तो के लिए सबसे बड़ा दिन होता है | कृष्ण और विष्णु भगवान की पूजा इस दिन पुरे विधि विधान से की जाती है | एकादशी के नियमो का पालन करके व्रत रखा जाता है और फिर अगले दिन सूर्योदय के बाद इसे तोडा जाता है | एकादशी के दिन कुछ उपाय ऐसे है जिन्हें आप कर ले तो पालनकर्ता विष्णु भगवान और अन्न और धन की देवी लक्ष्मी जी की कृपा प्राप्त होती है | यह कारगर उपाय आपकी इच्छाओ को पूर्ण करने में सहायक साबित होंगे |एकादशी के उपाय

पढ़े : एकादशी पर क्या नही करना चाहिए

एकादशी के 8 चमत्कारी उपाय

1) पास के किसी विष्णु मंदिर में जाकर हरि नारायण को पीले पुष्प की माला अर्पित करे |

2) मंदिर में ही उन्हें भोग के रूप में केशर की खीर जिसमे तुलसी के पत्ते हो , का भोग लगाये |

3) एकादशी की सुबह पीपल के पेड़ की पूजा करे | पूजा से पहले कच्चा दूध इस वृक्ष की जड़ में डाले और फिर शुद्ध घी का दीपक प्रज्वलित करे |

4) एकादशी के दिन व्रत रखे और अगले दिन द्वादशी पर ही व्रत को तोड़े | पढ़े : एकादशी का पारण कब और कैसे करे |

5) एकादशी के दिन संध्या को माँ तुलसी के पौधे के आगे गौ माँ के पवित्र घी का दीपक जलाये और तुलसी जी की आरती करे | इसके बाद उनके चारो तरफ ॐ नमो भगवत वासुदेवाय मंत्र का जप करके ग्यारह परिक्रमा करे |

6) इस दिन दक्षिणावर्ती शंख की पूजा करने से भी भगवान विष्णु व माता लक्ष्मी प्रसन्न होती है। इससे धन लाभ होता है |

7) एकादशी के पावन  पर्व पर आपको पीले फलो , अन्न और पीले वस्त्र का दान करना चाहिए | इससे आपके घर में कभी अन्न धन की कमी नही आती है |

8) इस रात्रि में माँ लक्ष्मी के धन प्राप्ति मंत्रो का जप कमलगट्टे की माला से करना चाहिए | माँ लक्ष्मी की कृपा मिलेगी आपको |

Other Similar Posts

एकादशी पर चावल क्यों नही खाने चाहिए

एकादशी व्रत में ध्यान रखे ये मुख्य नियम और विधि 

जलझूलनी एकादशी का महत्व ,महिमा पूजा विधि 

गुरूवार को कौनसे काम नही करने चाहिए , जाने शास्त्रों से

भगवान विष्णु का कल्कि अवतार कलियुग में

निर्जला एकादशी व्रत कथा | व्रत विधि | महत्व और महिमा

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *