एकादशी का महत्व हिन्दू धर्म में

एकादशी का महत्व

Importance of Ekadashi in Hindu Religion संस्कृत शब्द एकादशी ( Ekadashi ) का शाब्दिक का अर्थ  दस के बाद आने वाला ग्यारह ।  इसका अन्य नाम ग्यारस , एकादशमी आदि भी है | एकादशी पंद्रह दिवसीय पक्ष ( कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष ) के ग्यारवें दिन आती है। अर्थात मास में दो बार एक कृष्ण एकादशी और दूसरी शुक्ल एकादशी आती है | सबसे ज्यादा महत्व और महिमा शुक्ल पक्ष में आने वाली ग्यारस की बताई गयी है |
शास्त्रों के अनुसार हर वैष्णव को एकादशी के दिन व्रत करना चाहियें। यह ब्रत मनुष्य जीवन के लिए अत्यंत लाभकारी हैं |


एकादशी का महत्व और महिमा

पढ़े : एकादशी के 8 चमत्कारी उपाय, जो करेंगे आपकी इच्छा पूरी

पढ़े : एकादशी का पारण कब और कैसे करे

पुराणों में सभी व्रतों में एकादशी व्रत का बड़ा महत्व बताया गया है। पूरे साल में 24 एकादशी आती है । एकादशी का आरम्भ उत्पन्ना एकादशी से होता है। ऎसी मान्यता है कि इसी एकादशी से एकादशी देवी उत्पन्न हुई और फिर भक्तगण व्रत करने लगे ।


जो व्यक्ति एकादशी के दिन व्रत रखकर भगवान विष्णु या उनके ही द्वापर युग के अवतार श्री कृष्ण की पूजा करता है उसके कई जन्मों के पाप कट जाते हैं मोक्ष की प्राप्ति कर 84 लाख योनियों के जन्म मरण से मुक्त हो वैकुंट धाम विष्णु लोक में स्थान प्राप्त करता है।

हर एकादशी के साथ एक कथा और महिमा जुडी हुई है और व्रत करने वाले को उस एकादशी के अनुसार फल और पूण्य की प्राप्ति होती है | एकादशी व्रत से जुड़े कुछ नियम और विधि  है जो व्रत धारण करने वाले को पालन करने चाहिए | सबसे बड़ी बात यह है की किसी को भी एकादशी के दिन चावल नही खाने चाहिए | चावल को इस दिन मॉस के तुल्य बताया गया है | एकदशी व्रत के बाद इसका उद्यापन किया जाना चाहिए |

कुछ काम इस दिन करने वर्जित है पढ़े – एकादशी पर क्या नही करना चाहिए

Other Ekadashi  Posts

पुत्रदा एकादशी व्रत कथा | महत्व | विधि विधान

मोक्षदा एकादशी व्रत कथा , महत्व और विधि विधान

पद्मिनी एकादशी व्रत कथा | महत्व और पूजा विधि

निर्जला एकादशी व्रत कथा | व्रत विधि | महत्व और महिमा

आमलकी एकादशी महत्व | व्रत कथा | पूजा विधि

देव उठनी एकादशी का महत्व और कथा

देव शयनी एकादशी का महत्व और व्रत कथा

मोहिनी एकादशी व्रत कथा , महत्व , उपवास विधि और महत्व

पापांकुश एकादशी व्रत कथा महत्व और पूजन विधि

कामदा एकादशी व्रत का महत्व और कथा विधि

इंदिरा एकादशी व्रत कथा, व्रत विधि व महत्व और महिमा

जलझूलनी एकादशी का महत्व और व्रत कथा

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.