धनतेरस पर धन प्राप्ति के उपाय और टोटके

Dhanteras Par Dhan Prapti Upay and Totke धनतेरस दिवाली के दो दिन पहले आता है | इस दिन देवताओ के कोषाध्यक्ष कुबेर की पूजा करने का विधान है | मान्यता है की जिस व्यक्ति पर कुबेर देव की कृपा हो उसके पास कभी अन्न धन की कमी नही होती | यहा कुछ ऐसे उपाय और चमत्कारी टोटके बताये जा रहे है जो आपको अपार धन सम्पदा दिला सकते है | आप ऐश्वर्यपूर्ण और वैभवशाली जीवन पा सकते है |


पढ़े : धन प्राप्ति के सिद्ध 13 उपाय
dhanteras par dhan prapti upay

पढ़े : धनतेरस पर बर्तन खरीदने की परंपरा क्यों है
आइये जानते है इन सभी को |

धनतेरस के धन प्राप्ति के लिए अचूक उपाय और टोटके

1 * इस दिन भगवान धन्वंतरि जी का पूजन करें क्योकि इस दिन वे समुन्द्र मंथन से अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे ।

2 *  घर में नयी झाडू और सूपड़ा खरीद कर लाये और विधि से पूजन करें।

3 * सायंकाल दीपक प्रज्वलित कर अपने मकान , दुकान आदि को सुन्दर सजाये ।

4 * माँ लक्ष्मी को गुलाब के पुष्पों की माला पहनाये और उन्हें सफेद मिठाई का भोग लगाये |


5 * अपनी सामर्थ्य अनुसार तांबे, पीतल, चांदी के गृह-उपयोगी नवीन बर्तन व आभूषण क्रय करते हैं।
धनतेरस धन के उपाय टोटके
6 * हल जुती मिट्टी को दूध में भिगोकर उसमें सेमर की शाखा डालकर तीन बार अपने शरीर पर फेरें।

7 * धनतेरस के दिन सूखे धनिया के बीज खरीद कर घर में रखने से परिवार की धन संपदा में वृ्द्धि होती है।

8* कुबेर देवता का पूजन करें। शुभ मुहूर्त में अपने व्यावसायिक प्रतिष्ठान में नई गड़ी बिछाएं |

9* सायंकाल पश्चात 13  दीपक जलाकर  तिजोरी में भगवान कुबेर धन के देवता  का पूजन करें।
10* निम्न ध्यान मंत्र बोलकर भगवान कुबेर पर फूल चढ़ाएं –

श्रेष्ठ विमान पर विराजमान, गरुड़मणि के समान आभावाले, दोनों हाथों में गदा एवं वर धारण करने वाले, सिर पर श्रेष्ठ मुकुट से अलंकृत तुंदिल शरीर वाले, भगवान शिव के प्रिय मित्र निधीश्वर कुबेर का का मैं ध्यान करता हूं।

इसके पश्चात निम्न मंत्र द्वारा चंदन, धूप, दीप, नैवेद्य से पूजन करें –

यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धन-धान्य अधिपतये
धन-धान्य समृद्धि मे देहि दापय स्वाहा।’

इसके पश्चात कपूर से आरती उतारकर मंत्र पुष्पांजलि अर्पित करें।

11* मृत्यु के देवता यमराज  के निमित्त दीपदान करें।

12 * तेरस के सायंकाल किसी पात्र में तिल के तेल से युक्त दीपक प्रज्वलित करें।

13 * पश्चात गंध, पुष्प, अक्षत से पूजन कर दक्षिण दिशा की ओर मुंह करके यम से निम्न प्रार्थना करें-

‘मृत्युना दंडपाशाभ्याम्‌ कालेन श्यामया सह।
त्रयोदश्यां दीपदानात्‌ सूर्यजः प्रयतां मम।
अब उन दीपकों से यम की प्रसन्नता के लिए सार्वजनिक स्थलों को प्रकाशित करें।

 

Other Similar Posts

दीपावली का पौराणिक महत्व और कहानी

दीपावली पर अचूक उपाय और टोटके

धन लाभ के करे शिव पुराण में बताया गया यह आसान उपाय

राशि अनुसार धन प्राप्ति के उपाय

घर में रखे ये 7 शुभ चीजे , कभी धन की कमी नही आएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.