बसंत पंचमी पर सरस्वती के साथ होती है कामदेव की भी पूजा

बसंत पंचमी त्यौहार है बसंत के आगमन का स्वागत करने का | यह दिन प्रकृति के अनुपम सौन्दर्य को समर्प्रित है | इस दिन से वातावरण प्रकृति के सबसे सुन्दर रूप को प्राप्त करता है | अत: प्रेम के देवता कामदेव की पूजा का महत्व बढ़ जाता है | बंसत पंचमी पर सरस्वती पूजा का अत्यंत महत्व है जिन्हें विद्या , कला और संगीत की देवी के रूप में पूजा जाता है | इसके साथ इस दिन कामदेव और उनकी पत्नी रति की भी पूजा करने का भी विधान है |

पढ़े : माँ सरस्वती से जुड़ी कुछ रोचक बाते जो आप नही जानते होंगे

पढ़े : कामदेव के चमत्कारी मंत्र से पाये सुन्दरता और आकर्षण शक्ति

बसंत पंचमी पर क्यों होती है कामदेव की पूजा

क्यों होती है इस दिन कामदेव की पूजा

कामदेव को बसंत का मित्र बताया गया है | कामदेव का धनुष इसी बसंत के पुष्पों से सजा रहता है | इस दिन कामदेव की पूजा करने से सुन्दर काया प्राप्त होती है | प्राचीन काम में राजा महाराजा अपने रथो पर विराजमान होकर वसंत पंचमी के दिन काम देव की पूजा करने जाया करते थे |

कामदेव की पूजा से प्रेम का संचार होता है वही इनकी पत्नी रति की पूजा से श्रंगार योग और आकर्षण बढ़ते है | कामदेव की इस ऋतु में मनुष्यों के शरीर में कई बदलाव होते है जिसमे एक तरह की मादकता पाई जाती है | दुसरे देशो में भी इसी समय प्रेम के त्योहार जैसे वेलेंटाइन डे आदि मनाने की परम्परा है | ऐसा भी कहा जाता है कि शिव पार्वती विवाह से पहले इसी दिन तिलकोत्सव  भी हुआ था |

कामदेव का वाहन और मुद्रा
फोटो अधिकार  : वेब दुनिया

कामदेव पूजा में इनके नामो का जप 

कामदेव की पूजा में शुद्ध होकर पीले वस्त्र पहने , मन में कामदेव और रति की प्रतिमा की छवि के का अनुभव करे कि कामदेव और रति सुन्दर उद्यान में पुष्पों के बीच प्रेम गीत गा रहे है | प्रकृति अपने सबसे सुन्दर रूप में है | दोनों का नृत्य मोदक और संसार में प्रेम और आकर्षण बढ़ा रहा है | उसके बाद ये 9 नामो का जप करे |

 रागवृंत, अनंग, कंदर्प, मनमथ, मनसिजा, मदन ,  रतिकांत ,  पुष्पवान  और पुष्पधंव |

कामदेव रति स्तुति मंत्र

शुभा रतिः प्रकर्तव्या वसंतोज्ज्वलभूषणा। 

नृत्यमाना शुभा देवी समस्ताभरणैर्युता।।

वीणावादनशीला च मदकर्पूरचर्चिता।

कामदेवस्तु कर्तव्यो रूपेणाप्रतिमो भुवि।

अष्टबाहुः स कर्तव्यः शङ्खपद्मविभूषणः।।

चापबाणकरश्चैव मदादञ्चितलोचनः।

रतिः प्रीतिस्तथा शक्तिर्मदशक्ति-स्तथोज्ज्वला।।

चतस्रस्तस्य कर्तव्याः पत्न्यो रूपमनोहराः। चत्वारश्च करास्तस्य कार्या भार्यास्तनोपगाः।

केतुश्च मकरः कार्यः पञ्चबाणमुखो महान। 

Other Similar Posts

कामदेव को क्यों किया था भगवान शिव ने भस्म

कामदेव से जुड़ी कुछ रोचक बाते

जेब में ये खास चीज़ रखने पर तेजी से बढ़ने लगती है आकर्षण शक्ति

जया एकादशी उपवास का महत्व , व्रत कथा , पूजा विधि

राशि अनुसार धन प्राप्ति के उपाय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.