वराह जयंती पर हुआ भगवान विष्णु का वराह अवतार

वराह जयंती पर अवतरित हुए थे वराह भगवान

Varah Avatar Ki Katha – Kahani Hindi – वराह अवतार क्यों धारण किया विष्णु ने

जगत के सुचारू रूप के  संचालन के लिए भगवान विष्णु ने सभी चार युगों में अवतार लिए है | इसी में से एक विष्णु अवतार भगवान वराह (सूकर रूप ) का है |  भाद्रपद मास में शुक्ल पक्ष तृतीया को विष्णु जी ने अपना तीसरा अवतार वराह भगवान के रूप में लिया था | इस कारण इस दिन को वराह जयंती के रूप में जाना जाता है |


वराह अवतार की कथा इस वर्ष वराह जयंती 12 सितंबर 2018, के दिन मनाई जाएगी | इसके साथ ही इस दिन हरितालिका तीज व्रत का भी उत्सव मनाया जाता है जिसमे महिलाये और कुंवारी कन्याओं द्वारा शिव पार्वती और गणेश की पूजा और व्रत किया जाता है |

कैसे हुआ वराह भगवान का अवतार

विष्णु पुराण के अनुसार भगवान विष्णु के सभी अवतारों में से तीसरे अवतार भगवान वराह थे | वाराह कल्प में उन्होंने वेदयज्ञमय वाराह अवतार धारण किया |  ब्रह्मा जी के नाक से वे सूक्ष्म रूप में प्रकट हुए फिर दुसरे ही क्षण हिमकाय रूप धारण कर लिए |


शून्य हुई और पाताल लोक में वसुन्द्रा (भूदेवी )  की करुणामई विनती पर रसातल में धंसी हुई पृथ्वी को अपने खुरों पर उठाकर ऊपर निकाल लाये | बीच में ही हिरण्याक्ष दैत्य ने उनसे भयंकर युद्ध किया |  अंत में भगवान वराह ने हिरण्याक्ष का वध कर दिया और पृथ्वी को समुन्द्र के ऊपर स्थापित कर दिया | तदन्तर उन्होंने सात महादीपो में इसका वर्गीकरण कर दिया | इसके साथ भूलोक के साथ अन्य लोको की भी स्थापना कर दी |

वराह अवतार की कथा

वराह जयंती पर पूजन विधि

यह अवतार विश्व के कल्याण के लिए और सम्पूर्ण पृथ्वी पर नव जीवन के लिए हुआ था | जो सनातन प्रेमी वराह जयंती  पर व्रत रखते है , उन्हें एक कलश में भगवान वराह की प्रतिमा स्थापित करनी चाहिए |

इस प्रतिमा की पंचोपचार या  षोडषोपचार पूजन विधि से पूजा करके व्रत रखना चाहिए | दिन में वराह अवतार की कहानी और विष्णु महिमा का पान शास्त्रों और पुराणों से करना चाहिए |

अगले दिन बहते हुए शुद्ध जल में इस कलश का विसर्जन कर व्रत का पारण करना चाहिए | ब्राह्मण देवता और जरुरतमंदो को अपनी श्रद्दा अनुसार दान करे |

वराह मंत्र :

ऊँ नम: श्री वराहाय धरण्युद्धारणाय स्वाहा:

इस मंत्र का इस दिन जप करने से हर सुख की प्राप्ति और समाज में यश प्राप्त होता है |

Other Similar Posts

कूर्म जयंती पर जाने भगवान विष्णु के कूर्म अवतार की कहानी

विष्णु के अवतार भगवान नरसिंह की कहानी

भगवान विष्णु का कल्कि अवतार कलियुग में

भगवान शिव का वृषभ अवतार- विष्णु के पुत्रो का वध

देव उठनी एकादशी पर ऐसे करे विष्णु को प्रसन्न

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.