ऊंचे पहाड़ों पर ही क्यों बने है अधिकतर सिद्ध हिन्दू मंदिर

Mystery of Temples on Hill in Hindi :

पहाड़ों पर ही क्यों बने है अधिकतर सिद्ध हिन्दू मंदिर

क्या अपने सोचा है की हिन्दू धर्म में अधिकतर बड़े सिद्ध धर्मस्थल ऊँचे पहाडो पर ही क्यों बने हुए है ? आखिर क्या है इसका रहस्य, आखिर क्यों सभी बड़े सिद्ध मंदिर, धर्म स्थल और सिद्ध स्थान ऊँचे पहाडो पर है, और क्यों इन दुर्गम स्थानों पर चढ़ाई कर दर्शन पाने भक्त जाते है |पहाड़ मंदिर

पढ़े : भारत के चमत्कारी मंदिर

पढ़े : पूजा अर्चना और मंत्र से जुड़े लेख

0. धरती के ताज है पहाड़

धरती पर यदि कोई प्राकृतिक ऊँची चीजे है तो वे पहाड़ है | यह पृथ्वी की शोभा है | इसलिए जो मंदिर या सिद्ध पीठ पर्वतो पर है वे वे अत्यंत शक्तिशाली है |

1. मंदिर के दर्शन के साथ  साधना स्थल

ऊँचे पहाड़ो पर मने मंदिर सिद्धियों की प्राप्ति के लिए उत्तम जगह है | यहा दैविक शक्ति बाकि स्थानों से ज्यादा होती है | यहा भक्त दर्शन के साथ माला जप नियम से कर सकते है और ईश्वर की कृपा के ज्यादा पात्र बनते है |

2. शोर कोलाहल से दूर असीम शांति

किसी भी साधना में अत्यधिक एकांत की आवश्यकता होती है और मैदानी इलाको में यह व्यवस्था नहीं है और क्योंकि पहाड़ी इलाको में जनसँख्या बहुत ही कम होती है अतः यहाँ साधना करने में सुविधा रहती है | यहा का वातावरण प्राकृतिक और शांत होता है जो मंत्र जप में ध्यान लगाने में सहायक है |

पूजा में पंचोपचार पूजन विधि

3. प्राकृतिक उर्जा

पहाड़ या पर्वत  पिरामिड के आकर होते है जहाँ उर्जा का प्रवाह ज्यादा रहता है इसीलिए शक्ति साधको को साधनाओ में  सिद्धि जल्दी प्राप्त होती है |

4. तपस्या स्थली

यह स्थान पहले के समय से ही तपस्या के रूप में काम में लिए जा रहे है | इसी कारण यह तप के लिए उपयुक्त स्थान बन चुके है | यहा आपको तपस्या करने के लिए ज्ञान देने वाले सिद्ध पुरुष भी अधिक मिल जायेंगे |

5. भगवान चाहते है समर्पण

ईश्वर उन भक्तो पर अति प्रसन्न होता है जो तपस्या करते हुए इतनी लम्बी चढ़ाई पार कर अपना समर्पण दिखाते है | जो सिद्ध पीठ पहाड़ो पर है , वहा की चढ़ाई चढ़ कर दर्शन करने से अधिक फल प्राप्त होता है |

Other Similar Posts

पूजा में आरती का महत्व

किस देवता को कौनसा पुष्प चढ़ाये

क्यों होते है माला में 108 दाने

माँ वैष्णो देवी के तीन पिंडियो का रहस्य  

शिव पूजा शंख से नही करनी चाहिए ? क्यों

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.