जानिए, क्यों धारण करते हैं शिव त्रिशूल?

Why does lord shiva hold a trident (trishul) .

शास्त्रों और पुराणों में सबसे सरल महादेव को बताया गया है और इनसे जुड़े कई ऐसे राज है जिनका ज्ञान किसी को भी सही सही नही है | भगवान शिव से जुड़ी कई रोचक बाते ,इन्हे सभी से अलग दिखाती है | इनसे जुड़ी हर वस्तु का बहुत बड़ा महत्व और सार है | इसी क्रम में आज हम इनके हाथ में धारित त्रिशूल के बारे में जानेंगे | क्यों महादेव ने त्रिशूल धारण किया है और यह हमें किस बात की शिक्षा देता है |

shiv ka trishul kyo

तीन शुलो का है ये  सम्बन्ध

त्रिशूल – त्रिशक्ति – अर्थात ब्रह्मा , विष्णु और महेश , जो जन्म , पालन और मृत्यु के चक्र से समस्त संसार को चलाते है | इसी तरह यह तीनो काल भूत , वर्तमान और भविष्य को भी दर्शाता है | इन तीनो शक्तियों के सामंजस्य से ही समस्त ब्रहमांड की गतिविधियाँ संचालित होती है | यह त्रिशूल यह भी संकेत करता है कि  महादेव त्रिकालदर्शी है जो समस्त ज्ञान को अपने अन्दर समेटे हुए है |

शिव त्रिशूल

तीनो तत्व के ऊपर है महादेव

त्रिशूल के तीन शूल सत , तम और रज के प्रतिक है | और त्रिशूल पर बंधा डमरू ब्रहमांड की गति की आवर्ति को बताता है | अर्थात इन तीनो तत्व के कारण समस्त ब्रहमांड में क्रिया कलाप सम्पन्न होते है | अब शिव ने त्रिशूल को हाथो में धारण कर रखा है जिसका अर्थ है कि इन सभी तत्वों और शक्तियों के स्वामी स्वयं भगवान शिव ही है | .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.