पूर्णिमा और अमावस्या का चन्द्रमा से जुड़ा रहस्य

क्या आपने कभी यह सोचा की क्यों पूर्णिमा के दिन चाँद पूर्ण और अमावस्या के दिन चंद्रमा दिखाई नही देता |

पूर्णिमा और अमावस्या का रहस्य

पूर्णिमा और अमावस्या

पूणम

पूर्ण चन्द्रमा का दिखाई देना पूणम की रात है | यह शुक्ल पक्ष के 15वे दिन आती है | हर पूर्णिमा का अपना धार्मिक महत्व है | इस दिन कोई ना कोई त्यौहार जरुर आता है | यह दिन व्रत पूजा पाठ का माना गया है | 2018 में पूर्णिमा कब आएगी जाने


अमावस्या

यह माह की अंतिम और 30 वी तिथि पर आती है जब रात पूर्ण अन्धकार में डूबी होती है | यह रात बुरी शक्तियों और पितरो की मानी जाती है | सोमवार को आने वाली मावस को सोमवती अमावस्या और शनिवार को आने वाली को शनिश्चरी अमावस्या कहते है |

आपदा और हादसे में बढोतरी

पूर्णिमा और अमावस्या यूं तो खगोलीय घटनाएं हैं, लेकिन ज्योतिषियों की नजर में पूर्णिमा के दिन मोहक दिखने वाला और अमावस्या पर रात में छुप जाने वाला चांद अनिष्टकारी होता है। यह सीधे व्यक्ति के मन को संचालित करता है और प्रभाव दिखाता है | ज्योतिष विज्ञान का मत है की इन दो दिनों में हादसे और प्राकृतिक आपदो के आने के अवसर भी बढ़ जाते है | आप एक उदाहरण तो समुन्द्र में उठने वाले ज्वार भाते से देख सकते है जो चंद्रमा पर निर्भर करता है |

पढ़े : भारत की पवित्र और धार्मिक नदियाँ

हमारे मानव शरीर में 80 % तक पानी है और इस जल पर चंद्रमा का असर दिखाई देता है | यह मन को चंचल और अशांत बना देता है | इससे व्यक्ति की आपराधिक कर्म बढ़ जाते है | व्यक्ति तनाव और चिंतन के उच्चतम स्तर तक पहुँच जाता है |

पढ़े : गणेश चंद्रमा कथा – गणेश के श्राप के कारण बढ़ता घटता है चन्द्र का आकार

पूर्णिमा और अमावस्या को कैसे रखे मन को शांत

मनुष्य शरीर में मन और जल पर  चंद्रमा का प्रभाव पड़ता है | यह मन को अशांत और आपराधिक बनाता है | कहते है ना , ” मन के हारे हार है , मन के जीते जीत ” | अत: मन बहुत बड़ा कारक है जो तय करता है की हम खुश रहेंगे या दुखी | अत: पूर्णिमा और अमावस्या के दिन हमें इसकी शांति के लिए अपना समय पूजा आराधना  और ईश्वर की भक्ति में लगाना चाहिए | गलत बातो से दूर और उनसे प्रभावित नही होना चाहिए | अपने आप को व्यस्त रखे और ज्यादा नही सोचे |

Other Similar Posts

शरद पूर्णिमा के उपाय

पूर्णिमा के दिन टोटके और उपाय

बुद्ध पूर्णिमा का महत्व और पूजा विधि

कार्तिक पूर्णिमा के स्नान का महत्त्व

शरद पूर्णिमा की महिमा महत्व और पूजा विधि

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *