जानिए पौष महीने का महत्व और इस माह पड़ने वाले व्रत और त्योहार

Poush Month Importance According to Hinduism

हिन्दू पंचाग की माने तो हर मास की अपनी विशेषता है | जैसे हर दिन किसी ना किसी देवी देवता की पूजा का विधान होता है वैसे ही हर हिन्दू मास भी अपनी अलग खासियत रखता है | विशेषकर पौष मास में सूर्य देवता की उपासना का महिना माना जाता है | इस मास में सूर्य देव अपनी दिशा बदलते है | साथ ही आइये जानते है इस मास में आने वाले मुख्य व्रत और त्योहारों के बारे में

पौष मास की महिमा

पढ़े : तिल और गुड़ ही क्यों खाते हैं और क्यों उड़ाते है पतंग मकर संक्रांति पर

पढ़े : मकर संक्रांति शुभकामना सन्देश और शायरी 

2018-2019 में कब आएगा पौष माह

इस साल 2018 में पौष माह 23 December से शुरू हो रहा है जो अगले साल 2019 में 21 जनवरी तक रहेगा |

ज्योतिष पंचांग के अनुसार विक्रम संवत में पौष का महीना दसवां महीना होता है। इस मास में चंद्रमा पुष्य नक्षत्र में रहता है अत: इसका नाम पौष रखा गया है | 

पौष मास का महत्व

शास्त्रों की माने तो पौष के महीने में सूर्य देवता की पूजा सूर्य देवता के भग नाम से की जाती है  | यह भग ऐश्वर्य, धर्म, यश, श्री, ज्ञान और वैराग्य देने वाला होता है | पौष मास हमें सांसारिक कार्यो से ज्यादा धार्मिक कार्यो में ध्यान रखना चाहिए | इस मास में सूर्य आराधना का फल सबसे ज्यादा प्राप्त होता है |

पौष माह धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण माना जाता है । इस महीने दो विष्णु उपवास तिथियाँ एकादाशियां आएंगी पहली कृष्ण पक्ष को सफला एकादशी और दूसरी शुक्लपक्ष को पुत्रदा एकादशी। इस मास में आने वाली पूर्णिमा और अमावस्या का भी पितरो और दान के लिए अपना महत्व है ।

मकर संक्रांति का दान के रूप में महत्व अत्यंत बताया गया है | इस दिन सूर्य अपनी दिशा बदलकर उत्तर दिशा की तरफ झुक जाता है | पवित्र नदियों का स्नान कर सूर्य देवता को जल से अर्ध्य दिया जाता है फिर दीपक जलाकर सूर्य देव की आराधना की जाती है | फिर ब्राह्मणों और जरुरतमंदो को दान करना चाहिए |

पढ़े :- अपनी राशि अनुसार मकर संक्रांति पर क्या करे दान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.