नवरात्रि के दुसरे दिन ब्रह्मचारिणी देवी की पूजा विधि

Navratri Second Day – Brahamcharini Pooja Vidhi and Mantra

नवरात्रि के दुसरे दिन जिस देवी की पूजा अर्चना का विधान है वो है ब्रह्मचारिणी देवि । यह माँ कात्यायनी की दूसरी शक्ति है | ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। देवी ब्रह्मचारिणी का स्वरूप ज्योर्तिमय जो उनके अथाह तप से मिला है  है। इनके हाथो में कमण्डल और मंत्र जप की माला है |

पढ़े : नवरात्रि पूजा में राशि अनुसार ये उपाय पूर्ण करेंगे हर काम
पढ़े : नवरात्रि के तीसरे दिन चंद्रघंटा की पूजा विधि

माँ ब्रह्मचारिणी

इनकी पूजा करने से अटके काम पूर्ण होते है | इनकी कृपा से तप , संयम , सदाचार और संतोष की प्राप्ति होती है । यह शक्ति माँ कुंडलिनी शक्ति के जागरण में सहायक है | नवरात्रि के दुसरे दिन बहुत से साधक कुंडलिनी शक्ति जाग्रत करने की प्रक्रिया शुरू करते है |

ब्रह्मचारिणी देवी का ध्यान मंत्र

देवी ब्रह्मचारिणी की पूजा में सबसे पहले इनका ध्यान हाथों में एक फूल लेकर करे और निम्न श्लोक बोले ।

ध्यान मंत्र

वन्दे वांछित लाभायचन्द्रार्घकृतशेखराम्।

जपमालाकमण्डलु धराब्रह्मचारिणी शुभाम्॥

गौरवर्णा स्वाधिष्ठानस्थिता द्वितीय दुर्गा त्रिनेत्राम।

धवल परिधाना ब्रह्मरूपा पुष्पालंकार भूषिताम्॥

परम वंदना पल्लवराधरां कांत कपोला पीन।

पयोधराम् कमनीया लावणयं स्मेरमुखी निम्ननाभि नितम्बनीम्॥

maa parvati tapasya

इसके बाद देवी को पंचामृत स्नान कराएं, फिर श्वेत पुष्प , अक्षत, कुमकुम, सिन्दुर, अर्पित करें।  और इन मंत्रों का जप करे |

1. या देवी सर्वभू‍तेषु माँ ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

2. दधाना कर पद्माभ्याम अक्षमाला कमण्डलू।

देवी प्रसीदतु मई ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा।।

इसके बाद देवी मां को प्रसाद अर्पित कर आचमन कराये  | माँ की कपूर और शुद्ध घी के दीपक से आरती करे । इन सबके बाद क्षमा प्रार्थना करें ।

Other Similar Posts

उपवास और व्रत करने के फायदे

सुन्दर गुणवान और भाग्यशाली पत्नी पाने के लिए जपे यह दुर्गा मंत्र

चमत्कारी कामाख्या ( कामिया ) सिंदूर का है खास महत्व

माँ गायत्री कौन है , हिन्दू धर्म में देवी का महत्व और परिचय

काली माता मंदिर: एक ही दिन में मां काली यहां देती हैं 3 रूपों के दर्शन

माँ पर शायरी और दोहे कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.