सबसे ज्यादा पुण्य दिलाने वाले महा दान कौनसे है

हमारे सनातन धर्म में दान का अत्यंत महत्व बताया गया है | पुराणों में  भारत के महान महादानी दानवीर बताये गये है | एक गृहस्थ व्यक्ति को अपनी आमदनी का 30 प्रतिशत तक दान करना चाहिए | दान वहा करे जहा उसकी सबसे ज्यादा जरुरत हो | दान करने वाले के मन में करुणा दया का भाव होता है | वो किसी अन्य की ख़ुशी के लिए त्याग करने की भावना रखता है | यह गुण उसे भवसागर से पार ईश्वर के करीब ले कर जाते है | अथर्ववेद के एक श्लोक में लिखा है कि सैकड़ों हाथों से कमाना चाहिए और हजार हाथों वाला होकर समदृष्टि से दान देना चाहिए। किए हुए कर्म का और आगे किए जाने वाले कर्म का विस्तार इसी संसार में और इसी जन्म में करना चाहिए | आइये जाने वे कौनसी चीजे है जिनका दान करने से सबसे अधिक पुण्य की प्राप्ति होती है |


पढ़े : पूजा अर्चना और मंत्र से जुड़े लेख

पढ़े : भारत के चमत्कारी मंदिर

सबसे बड़े दान कौनसे है |

रक्त दान :

रक्त दान आज विज्ञान की दुनिया में किसी व्यक्ति की आपातकालीन अवस्था में उसकी जान बचाने के लिए खून की जरुरत पड़ती है | यदि कोई स्वस्थ व्यक्ति परोपकार की भावना से अपना खून दान करता है तो वो किसी का जीवन बचा सकता है | अत: मेरी नजर में जीवन रूपी खून का दान देना सबसे बड़ा दान है | यह किसी को नया जीवन दे सकता है | यह सच्ची मानवता है  | इसमे कोई जाति , संप्रदाय और रंग रूप से कोई भिन्नता नही है |

आजीविका की व्यवस्था :


आजीविका ठेला यदि कोई राह में आपसे भीख मांगे , खाना मांगे और आप उस शक्श को वे उपलब्ध करा दे तो आपने उसका एक बार तो पेट भर दिया | पर यदि आप कुछ ऐसा उसके लिए कर दे की वो अपनी मेहनत से कुछ पैसे कमाना शुरू कर दे तो फिर उसे भीख मांगने की जरुरत नही पड़ेगी | जी हाँ हम बात कर रहे की यदि आपने उसे किसी काम पे लगा दिया या उसे कुछ सामान बेचने वाला बना दिया |

मरने के बाद शरीर के अंगो का दान

अंगो का दान यदि मरने के बाद कोई अपने शरीर के अंगो जैसे आँख ,अग्नाशय (पैनक्रियाज), छोटी आंत (इन्टेस्टाइन), फेफड़े (लंग्स) केसाथ ही त्वचा (स्किन) आदि का दान कर सकता है | यह मृत्यु के बाद भी अपने शरीर के अंग दान करना महादान में आता है |

इसके अलावा अन्न दान , गौदान , वस्त्र दान आदि कई दान बताये गये है |

Other Similar Posts

इन वस्तुओं का कभी नही करे दान , होता है अमंगल

किन चीजो का दान करने से मिलता है अधिक पूण्य

पितरो को किया जाने वाला दान क्या क्या है

क्यों तिरुपति में केश (बालो) का दान होता है

 

One comment

  • नंगा बाबा

    बुरे कामोसे कमाया हुआ धन जब दान मे चढाकर समाज मे प्रतिश्ठा पातेहै । ओर इनको प्रतिश्ठीत बनाने वाला खुदको ब्राह्मण कहलाता है।
    क्या ब्राह्मण ये ऐक ऊपाधी है। या पिढीजात ठेकेदारी है।

    नंगा बाबा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.