माँ दुर्गा की 22 किलो सोने की साड़ी

माँ दुर्गा की 22 किलो सोने की साड़ी

नवरात्रि के 9 दिन माँ दुर्गा की भक्तिमय माहौल के लिए पांडाल सजाये जाते है , सभी मंगल एक से बढ़कर एक पांडाल बनाते है जिसमे तो कुछ अपने भव्यता के लिए देश भर में जाने जाते है | ऐसा ही पांडाल पिछले साल 2017 में सजा था जिसमे माँ दुर्गा की मूर्ति के वस्त्र स्वर्ण से बने हुए थे |


पढ़े : बंगाल में सबसे महंगा माँ दुर्गा का पंडाल , 15 करोड़ का पांडाल , 8 किलो पहना माँ ने सोना

maa durga ki murti golden

साल 2017 में कोलकाता में सोने की 22 किलो साड़ी की प्रतिमा महानगर के संतोष मित्र स्क्वायर पूजा पंडाल में लगाई गई थी | करोड़ो की लागत से निर्मित इस प्रतिमा और पांडाल के बारे में चले जानते है |

क्यों बनाई गयी सोने की 22 किलो की साड़ी


बंगाल की धरती दुर्गा पूजा के लिए विशेष रूप से जानी जाती है | यहा नवरात्रि में अति सुन्दर पंडाल सजाये जाते है | बंगाल के कारीगरों की सुन्दरता को दुनिया के सामने लाने के लिए स्वर्ण साड़ी का निर्माण करवाया गया है | साथ ही आयोजन समिति अपने 85वें साल में एक विशेष गिफ्ट माता रानी को देना चाहती थी |

Video of Most Expensive Gold Cloth of Goddess Durga in Kolkata

22 कैरेट सोने की साड़ी में जरी का अति सुन्दर कार्य किया गया है | इस साड़ी की कीमत 6.5 करोड़ बताई गयी है | साड़ी में फूल पट्टी के साथ मोर की एम्बोदरी का कार्य किया गया है जो बहुत ही सुन्दर है | इसे बनाने में ३ महीने का समय लगा है जिसे 50 कारीगरों ने बनाया है |

 

लन्दन शहर की थीम पर बना था पांडाल

माँ जगदम्बे की साड़ी के लिए सोना कोलकाता के ही एक सोने से जुड़ी फ़र्म ने दिया है | इस सोने से साड़ी निर्माण का कार्य कुमारटोली के मशहूर कलाकार मिटू पाल और उनकी टीम ने तैयार किया है |

london pandalLondon-in-Kolkata-Durga-Puja-2017

इस मूर्ति को जिस पंडाल में लगाया गया है , उसका रूप लन्दन शहर के मुख्य दर्शनीय स्थलों के रूप में दिया गया था | पंडाल में लंदन ब्रिज के अलावा बिग बेन, लंदन आई और बकिंघम पैलेस नजर आते हैं।

Other Similar Posts

नवरात्रि पर सबसे बड़ी तपस्या कर रहे है बिहार के नागेश्वर बाबा

नवरात्रि के तीसरे दिन माँ चंद्रघंटा की होती है पूजा – जाने इस स्वरुप के बारे में

माँ कात्यायनी का जन्म ब्रह्मा, विष्‍णु और महेश तीनों के तेज से

कनकधारा स्त्रोत का पाठ इस विधि से करे , माँ लक्ष्मी भर देगी तिजोरियां

करवा चौथ का व्रत छलनी से चांद देखकर ही क्यों तोड़ा जाता है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.