रामायण के राम अरुण गोविल से जुडी रोचक बाते

Arun Govil Biography family and carrier

रामानंद सागर की रामायण और उसमे सबसे अहम रोल ‘श्री राम ‘ का  निभाने वाले अरुण गोविल | राम का किरदार निभाने वाले अरुण जी के जीवन का यह सबसे बदलाव वाला दौर था | इस अदाकारी के बाद उनके जीवन में बहुत ही सुखद बदलाव आने लगे थे  | वे इस कलियुग में श्री राम के रूप में देखे जाने लगे | लोग उनके दर्शन करने और चरण स्पर्श करने को आतुर रहते | यह उनके जीवन में सबसे ज्यादा प्रसिद्धि दिलाने वाला किरदार था |

पढ़े : – विश्व की सबसे बड़ी प्रतिमा बनने जा रही है अयोध्या में श्री राम की

प्रारंभिक जीवन

इनका जन्म 12 जनवरी 1952 को उत्तरप्रदेश में हुआ और शुरूआती शिक्षा भी इन्होने मेरठ से प्राप्त की | वे बचपन में नाटको में अभिनय करते थे | उनका सपना था की वे एक अभिनेता के रूप में जाने जाए | इसी सपने को सच्च करने वे 17 साल की उम्र में वे मुंबई आ गये और अपना छोटा व्यवसाय शुरू किया | धीरे धीरे वे tv और फिल्मो में छोटे बड़े रोल में दिखाई देने लगे |

राजश्रीवालों ने अपनी  जीवन मूल्यों पर आधारित फिल्मो में उन्हें रोल देना शुरू कर दिया | 1977 में पहेली , फिर 2 साल बाद सान्च को आन्च नही , राधा और सीता , सावन को आने दो आदि मूवी में उनका अभिनय देखा गया | हलाकि फिल्मो से उन्हें कोई खास सफलता नही मिली |

विक्रम और बेताल से आये सुर्खियों में

vikram or betal

अरुण गोयल जी को टेलीविज़न पर प्रसिद्धि रामानंद सागर के शो विक्रम और बेताल से मिली | इस शो में वो महाज्ञानी राजा विक्रमादित्य का किरदार निभाने का मौका मिला | यह शो 1985 में आया करता था | रामानंद जी ने बताया कि इस शो से पैसे कमाना चाहते थे जिससे की वो रामायण बना सके | यह शो बहुत हिट हुआ और फिर रामायण बनाने के लिए जरुरी फण्ड प्राप्त होने लगे  |

फिर शुरू हुई रामायण

एक साल बाद 1986 में दूरदर्शन पर रामानंद सागर रामायण लेकर आये जो सबसे प्रसिद्ध टीवी शो बन गया | इसमे राम का किरदार अरुण जी ने और सीता का किरदार दीपिका चिखालिया ने किया | वे घर घर में राम रूप में देखे जाने लगे | वे उस समय 37 साल के थे | लोग उन्हें राम तुल्य समझकर पूजा करने लगे |

पढ़े :- कैसे हुआ वानरराज बालि और सुग्रीव का जन्म ?

arun govil family

राम बनने के बाद छोड़ दी सिगरेट

अरुण जी चेन स्मोकर थे , पर एक बार उनके फैन ने उनसे कहा की राम होकर सिगरेट पीते हो | यह बात उनके दिल पर छाप छोड़ गयी और उन्होंने सिगरेट छोड़ दी |

पढ़े :- मेघनाथ के बाद एक और राक्षस ने राम और लक्ष्मण के प्राण संकट में ला दिए थे

अन्य टेलीविज़न शो

इसके बाद उन्होंने 20 से ज्यादा टीवी शो में भाग लिया जिसमे अपराजिता , जिंदगी नवरंग है , सांझी , सुप्रिया , विश्वामित्र  आदि है | इसके अलावा भोजपुरी , तेलगु , कन्नड़ और बंगाली फिल्मो में भी अभिनय किया |

परिवार – अरुण जी का विवाह श्रीलेखा जी के साथ हुआ | उनके एक पुत्र और  पुत्री का नाम अमल और सोनिका है | वे (अरुण जी ) वर्तमान में अपना व्यवसाय सँभालते है | इस समय 2020 में उनकी उम्र 68 की है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.