खरमास क्या है और इसमे कौनसे काम करना वर्जित है ?

2020 में 14 मार्च से खरमास लग रहा है जिसे मलमास भी कहते है | यह एक  महिने  तक अर्थात 13 अप्रैल तक रहेगा | जब सूर्य देव मीन राशि में प्रवेश करते है तब यह लगता है |

खरमास महत्व

कब से कब तक खरमास : – खरमास 2020 में एक माह के लिए 14 मार्च से लगकर 13 अप्रैल तक लग रहे है |

खरमास प्रारंभ: 14 मार्च, 2020, शनिवार सुबह 01:46 बजे से आरम्भ

खरमास समाप्त : 13 अप्रैल, 2020, बुधवार रात्रि 10:28 बजे को समाप्त

बंद हो जाते है मांगलिक कार्य :

पढ़े :- भगवान विष्णु से जुड़े मंत्र और जप विधि

malmas me kya kare kya naa kare

खरमास में मांगलिक कार्य बंद हो जाते है जैसे विवाह , जनेऊ संस्कार , गृह प्रवेश , नया घर बनाना , नयी गाडी खरीदना आदि |

तो फिर क्या करे खरमास में

इस माह पूजा पाठ का महत्व ज्यादा है | भगवान के भजन करना , कीर्तनो सत्संगो में भाग लेने का विशेष पुन्य प्राप्त होता है |   इस 1 महीने में सूर्य पूजा और सूर्य को अर्ध्य देने का भी अत्यंत महत्व बताते है | ऐसा करने वाला आर्थिक , मानसिक और शारीरिक सुख प्राप्त करता है | तीर्थ स्थानों पर जाकर स्नान , जप और दान करने से अक्षय पूण्य की प्राप्ति होती है |

खरमास में विष्णु जी के लिए मंत्र

मंत्र :- गोवर्धन धरवन्देगोपालं गोपरूपिणम् गोकुलोत्सवमीशानं गोविन्दं गोपिकाप्रियम्

खरमास में भगवान विष्णु जी की पूजा का विशेष महत्व है | सुबह नित्य कर्मो को पूर्ण करके पीले वस्त्र धारण करे , पीले रंग का मस्तिस्क पर तिलक लगाये और फिर ईशान दिशा या घर मे मंदिर में बैठकर निम्न मंत्र का जप करे |

Other Similar Posts

मलमास में क्यों नही होते मांगलिक कार्य

पुरुषोत्तम मास | मलमास की पौराणिक कथा

भद्रा क्या होती है और क्यों इसे अशुभ माना जाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.