घर की छत पर ध्वजा (झंडा ) लगाने से क्या होता है

हर व्यक्ति चाहता है कि उसके घर का वातावरण शांत और सकारात्मक परिणाम देने वाला हो | इसके लिए वह अपनी आदतों और घर के रख रखाव में बहुत सी बाते लागू करता है | घर में पॉजिटिव एनेग्री बढती रहे इसके लिए हमारे शास्त्रों में कई बाते बताई गयी है | इसमे से आज हम बात करेंगे घर की छत पर ध्वजा लहराने से होने वाले धार्मिक लाभ की |

हिन्दू धर्म में अपने घर की छत पर ध्वजा (झंडा या निशान ) लहराने की परम्परा प्राचीन समय से है | यह ध्वजा घर का तिलक होता है जो घर की शोभा के साथ सकारात्मक उर्जा बढाता है |

ghar ki chhat par dhwja

वास्तु शास्त्र में ध्वजा पॉजिटिव एनेग्री और शुभता का प्रतीक है | पहले के समय जब राजा अपने महलो पर अपनी विजय और कीर्ति के लिए अपने अपने ध्वजा लगाते थे |

हिन्दू धर्म में ध्वजा का रंग

हिन्दू धर्म में भगवा अर्थात केसरिया ध्वजा का बहुत महत्व है | इस ध्वजा में श्री राम , स्वस्तिक , कलश आदि के चिन्ह लगे रहते है | यह देवी देवताओ की कृपा प्राप्ति का प्रतीक है |

घर के किस दिशा में लगाये ध्वजा

वास्तु नियमो के अनुसार घर की छत के वायव्य दिशा (उत्तर पश्चिम ) में ध्वजा लहरानी चाहिए | यह  वायव्य दिशा वायुदेव  और वरुण देव की दिशा है जो वायु और जल देवता की दिशा है | इस दिशा में वायु और जल भण्डारण रखना अत्यंत शुभ माना गया है |

घरो में ध्वजा लगाने से व्यक्ति के घर के वास्तु दोषों के साथ कुंडली में अशुभ ग्रहों के दोष भी दूर होते है | यह भी मान्यता है कि किसी भी भवन की छत रहने वाले लोगों की कुंडली का बारहवां भाव यानि घर होती है। इसलिए ग्रहों से संबंधित दोष को शांत करने के लिए झंडा लगाए जाते हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.