इस कारण खास है मैसूर का दशहरा , दुनियाभर से देखने आते है पर्यटक

क्यों मैसूर का दशहरा क्यों है दुनियाभर में प्रसिद्ध , इसी के लिए यह पोस्ट लिखी गयी है | दशहरा अर्थात दशमी के दिन दस सिरों वाले रावण का श्री राम के हाथो अंत | त्रेता युग में रावण की मुक्ति हुई और आज कलियुग में भी उसी याद में हर विजयदशमी पर रावण को जलाया जाता है | देश भर में हजारो लाखो की संख्या में रावण के पुतले हर शहर , हर गाँव में जलाये जाते है | पुरे भारत में सबसे बड़ा दशहरा कर्नाटक के मैसूर शहर में मनाया जाता है | इस दिन यहाँ का राजदरबार आम आदमियों के लिए भी खोल दिया जाता है | यहा विजयदशमी का उत्सव 10 दिनों तक चलता है | सांकृतिक कार्यक्रमों , नृत्य नाटिका के साथ भव्यता से सम्पन्न होता है यहा का दशहरा |

पढ़े : – विजयदशमी के दिन किये जाने वाले उपाय जो दुर्भाग्य को करते है दूर

अंतिम दिनों में भव्य गज जुलुस निकाला जाता है जिसमे 15 हाथी शामिल किये जाते है | इन्हे बहुत सुन्दर सजाया जाता है | नाचते गाते जयकारो के साथ यह यात्रा 5 किमी तक चलती है | आकर्षक झांकिया मन मोह लेती है | चामुंडेश्वरी देवी की प्रतिमा को हाथी पर विराजमान कर नगर भ्रमण करवाया जाता है |

400 सालो से मनाया जा रहा है यह भव्य उत्सव

maisure place in dussera

ऐसा बताया जाता है कि मैसूर में दशहरा का आयोजन 15वीं शताब्दी से विजयनगर के राजाओ द्वारा   हुआ था। इसे लोकल भाषा में  नाडा हब्बा के नाम से जाना जाता है | यह विजयदशमी के दिन  चामुंडेश्वरी माता की पूजा और भव्य जुलुस का आयोजन होता है जिसमे राज परिवार के साथ पुरे शहर को शामिल किया जाता है | इसे कर्नाटक का राजकीय उत्सव तक घोषित कर दिया गया है | 21 तोपों की सवारी से जुलुस राज महल से निकल कर पुरे नगर में भ्रमण करता है |

मैसूर राजमहल सजता है दुल्हन की तरह

मैसूर के दशहरे के उत्सव के पहले मैसूर राजमहल को दुल्हन की तरह रौशनी से चका चोंध किया जाता है | इसमे 1 लाख से ज्यादा बल्प लगाये जाते है | इसकी सुन्दरता देखने दूर दूर से पर्यटक आते है |

750 किलो सोने का सिंगासन

मैसूर के विजयदशमी के उत्सव में सबसे खास है एक सिंगासन जिसमे लगभग 750 किलो सोना लगा हुआ है | इसे गोल्डन हौदा कहते है | इसी सिंगासन पर विराजती है देवी चामुंडेश्वरी की प्रतिमा और करती है नगर भ्रमण | सभी नगरवासी अपनी आराध्या देवी के दर्शन पलके बिछाकर करते है | इसे जम्बो सवारी के नाम से जाना जाता है |

Other Similar Posts

क्यों मनाते हैं दशहरा ? पौराणिक महत्व और महिमा

दशहरा (विजयादशमी) शुभकामना सन्देश message

तेल के 12 अचूक टोटके जो बदल दें आपका भाग्य, जरूर करें आज

अयोध्या में दीपावली कैसे मनाई जाती है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.