रावण के माता पिता , भाई बहिन और परिवार

कौन था रावण ? और उसका परिवार

हम दशहरा (विजयादशमी ) को विजय दिवस के रूप में मनाते है | इसी दिन त्रेता में भगवान विष्णु के अवतार श्री राम ने लंकापति रावण और उसके साथ देने वाले योध्याओ का संहार किया था |

ब्रह्मा जी के पुत्र मुनिवर पुलस्त्य हुए और उनका पुत्र था विश्रवाका | विश्रवाका जी की दो पत्नियां थी | पुण्योत्कटा और कैकसी |रावण का परिवार

भाई बहिन

बड़ी पत्नी पुण्योत्कटा के गर्भ से धन के देवता कुबेर ने जन्म लिया और दूसरी पत्नी कैकसी से रावण का जन्म हुआ | रावण के भाई बड़े से छोटे क्रम में फिर कुम्भकरण , विभीषण अहिरावण, खर और दूषण थे | उनकी बहिन शूर्पणखा और कुम्भिनी हुई |

जन्म के पीछे लक्ष्य

रावण की माता एक राक्षसणी थी जबकि पिता ब्राह्मण जाति के थे  | यह विवाह इसलिए हुआ था की ब्राहमण और राक्षस के मिलन से ऐसा शक्तिशाली योध्या जन्म ले तो देवताओ को हराकर राक्षस कीर्ति को आगे बढ़ा सके | दोनों के मिलन के कारण रावण में दैत्य प्रकृति के साथ ज्ञान का भंडार भी था |

रावण की पत्नियां

लंकापति रावण की दो पत्नियां थी , एक मंदोदरी और दुसरी धन्यमालिनी |

रावण के पुत्र

रावण का पुत्र एक मेघनाथ था जिसने इंद्र को जीत लिया था , इसी कारण उसका नाम इन्द्रजीत भी रखा गया | इसके अलावा त्रिशिरा और अक्षयकुमार भी थे |

हर विजयदशमी (दशहरा  के दिन ) बुराई के प्रतीक रावण , कुम्भकर्ण और मेघनाथ के पुतले जलाये जाते है |

Other Similar Posts

कमलनाथ महादेव मंदिर , -शिव से पहले होती है रावण की पूजा

क्यों हनुमान ने नही मारा रावण को

क्या सीता रावण की पुत्री थी ? आइये जाने क्या कहती है एक कथा

रामायण के सच्चे सबूत मिले है

सबसे पहली रामायण हनुमान ने लिखी पर सागर में डुबो दी ? क्यों

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *