शुभ और अशुभ संकेत शकुन अपशकुन की घटनाये जाने

अशुभ संकेत अपशकुन

भारतीय प्राचीन ग्रंथों में ‘वास्तु’ एवं जीव संबंधों के बारे में अनेकानेक तथ्यों से शुभाशुभ की जानकारी किसी भी स्थान पर रहने वालों को प्राप्त होती रहती है। प्रकृति को विभिन्न विकिरणों एवं संदेशों को समझने एवं ग्रहण करने की क्षमता मनुष्य से कई गुना अधिक होती है। तदनुसार वे अपने माध्यम से मनुष्य को ईशारे करती है क्या सही है और क्या नही । शकुन शास्त्र से भाग्य उदय होने के संकेत हमने पहले आपको बताये थे | अंग के फड़कने के संकेत कारण शुकन अपशुकन भी जाने |shubh ashubh sanket



अशुभ घटनाये और बुरे संकेत

* घर में बिल्लियो  का प्राय: लड़ना अच्छा नही माना जाता है | इससे घर के सदस्यों में भी लड़ाई झगडे होने के आसार बढ़ जाते है | धन की भी हानि होती है |

* वास्तु शास्त्र के टिप्स के अनुसार घर में मकड़ी के जाले दिखना भी अशुभ माना गया है |

* भवन के सम्मुख कोई कुत्ता भवन की ओर मुख करके रोए तो निश्चय ही घर में कोई विपत्ति आने वाली है अथवा किसी की मृत्यु होने वाली है।

* घर में चमगादड़ों का वास होना बहुत बड़ा अपशकुन माना गया है |

* घर के ऊपर यदि कोई घायल पक्षी आकर मृत्यु को प्राप्त करता है तो यह भी अशुभ माना जाता है |

* आधी रात में घर के पास कुत्ते की भोखने की आवाज आये तो यह भी अच्छा नही है |

शुभ बाते और संकेत

* जिस भवन के द्वार पर आकर गाय जोर-जोर से रंभाए तो निश्चय ही उस घर के सुख में वृद्धि होती है।

* घर में यदि प्राकृतिक रूप से कबूतरों  ने अपना निवास बना रखा है तो घर में सकारात्मक उर्जा के होने का संकेत देता है |

पढ़े : उपहार में शुभ चीजे और गिफ्ट आइटम क्या देने चाहिए

* रसोई और घर के मंदिर में छिपकली का दिखना शुभ माना जाता है |

* पीला बिच्छू माया और धन वैभव का प्रतीक है। यदि यह दिखे तो घर में लक्ष्मी का आगमन होता है।

* जिस घर में प्राय: बिल्लियां आकर विष्ठा (मल मूत्र त्याग ) कर जाती हैं, वहां कुछशुभ परिणाम मिलते है

* जिस भवन में छछूंदरें घूमती हैं वहां लक्ष्मी की वृद्धि होती है।

* जिस घर की छत या मुंडेर पर कोयल या सोन चिरैय्या चहचहाए, वहां निश्चित ही श्री वृद्धि होती है।

Other Similar Posts

जन्म तिथि से जाने भविष्य और स्वभाव

वास्तु शास्त्र के हिसाब से शुभ वास्तु चिन्ह और प्रतीक

वास्तु में इन आठ दिशाओं का महत्व और जुड़े उपाय

वास्तु उपाय – घर में कौन से पौधे लगाएं और कौन से नहीं

दुसरो की इन चीजो का इस्तेमाल नही करना चाहिए

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.