साल का अंतिम सूर्य ग्रहण 26 दिसम्बर को

2019 के जाते जाते अंतिम सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) हमें दिखाई देगा जो 26 दिसम्बर के दिन है | यह पूर्ण सूर्य ग्रहण नही बल्कि खंडग्रास सूर्य ग्रहण होगा जिसकी आकृति वलयकार होगी |

26 dec ko grahan

सूर्य ग्रहण का समय

भारतीय समय अनुसार आंशिक सूर्यग्रहण सुबह 8  बजे आरंभ से शुरू होगा  जबकि वलयाकार सूर्यग्रहण सुबह 9.06 बजे शुरू होगी | सूर्य ग्रहण की वलयाकार अवस्था दोपहर 12 बजकर 29 मिनट पर समाप्त होगी जबकि ग्रहण की आंशिक अवस्था दोपहर एक बजकर 36 मिनट पर समाप्त होगी |

पढ़े – सूर्य ग्रहण में ध्यान रखे ये बाते , वरना होगा भारी नुकसान

ग्रहण का सूतक काल कब से है

26 दिसम्बर के ग्रहण का सूतक काल  25 दिसंबर की शाम को 5 बजकर 31 मिनट से शुरू हो जाएगा , जो अगले दिन 26 दिसम्बर सुबह 10 बजकर 57 मिनिट तक रहेगा | सूतक काल में मंदिरों के पट बंद रहते है और कोई शुभ कार्य नही किये जाते है | आप मन ही मन ईश्वर की पूजा और मंत्रो का जप करना शुभ माना जाता है |

सूतक काल कब है

पढ़े – चन्द्र ग्रहण क्या होता है और इसमे क्या करे और क्या नही करे

क्या होता है वलयाकार ग्रहण –

जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच चंद्रमा आ जाता है और सूर्य की किरणों को धरती पर आने से रोकता है तब सूर्य ग्रहण होता है | पर यदि चंद्रमा पूर्ण रूप से सूर्य की किरणों को धरती पर आने से रोक नही पाता और सूर्य का बाहरी हिस्सा प्रकाशित रहता है तब इस ग्रहण को वलयाकार माना जाता है |

दक्षिण भारत से दिखाई देगा

मौसम विभाग के अनुसार भारत में वलयाकार सूर्य ग्रहण को देश के दक्षिणी भाग जैसे  केरल , कर्नाटक और  तमिलनाडु के शहरो से देखा जा सकता है | जबकि बाकि भारत से यह सूर्य ग्रहण आंशिक रहेगा | भारत में वलयाकार सूर्य ग्रहण के समय सूर्य का करीब 93 % हिस्सा चन्द्रमा से ढक जायेगा |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.