सोमवती अमावस्या

सोमवती अमावस्या का महत्व  :

Somavati Amawasya Poojan Vidhi In Hindi जो अमावस्या सोमवार के दिन आती है उसे सोमवती अमावस्या कहा जाता है | इस अमावस्या को विशेष पर्वो में स्थान प्राप्त है | इस दिन पूजा पाठ का विशेष फल प्राप्त होता है | यह फल देवी देवता और पितरो से मिलता है |


somvati amawasya ka mahtav
सोमवार को शिव पूजन के साथ आने वाली अमावस्या पर  का भी अत्यंत महत्व और महिमा है | सोमवती अमावस्या के दिन भगवान शिव के मंत्र का जप करे और शिव पुराण पढ़े | असली रुद्राक्ष की पहचान करके उस माला से मंत्र जप करे |

इस दिन सुहागिन औरते अपने पति की लम्बी आयु के लिए  व्रत रखती है | इस दिन भगवान शिव और पीपल के वृक्ष की विशेष पूजा की जाती है |

स्नान का महत्व :

हमारे धर्मग्रंथो के अनुसार इस दिन हमें पवित्र नदियो में स्नान करके दान पुण्य करना चाहिए | यदि ऐसी पवित्र नदिया दूर हो तो आस पास की नदी सरोवर पर भी स्नान किया जा सकता है |

अमावस्या के यह उपाय चमका देंगे आपकी किस्मत

सोमवती अमावस्या व्रत पूजन विधि  :

  • इस दिन पीपल की पूजा करनी चाहिए | पीपल में सभी देवी देवताओ का वास बताया गया है |
  • पीपल की पूजा के बाद 7, 11,21 या 108 परिक्रमा करनी चाहिए |
    सोमवती अमावस्या पूजन
  • पीपल के मूल में अपने पितरो के नाम से कच्चा दूध मिला जल जिसमे काले तील , बतासे और लौंग हो , अर्पित करना चाहिए |
  • इस दिन पितरो के लिए पिंडदान किसी तीर्थ पर करवाना चाहिए |
  • आर्थिक मजबूती के लिए सूर्य भगवान को जल चढ़ाना चाहिए  |
  • गरीबो को भोजन कराये |

यह भी जरुर पढ़े

क्या होती है सर्व पितृ अमावस्या और कैसे की जाती है पूजा

2017 में कब कब आएगी अमावस्या

हरियाली अमावस्या महत्व

शनि अमावस्या के उपाय पर टोटके

अमावस्या पर इन 5 चीजों को दान करने से पूरी होती है हर इच्छा

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.