शीतला माता का चमत्कारी घड़ा

राजस्थान के पाली जिले  में शीतला माता के मंदिर में एक छोटा सा घड़ा पड़ा है | यह घड़ा  श्रद्धालुओं  के लिए आश्चर्य का केंद्र बना हुआ है | साल में २ बार इस घड़े को पानी से भरने की कोशिस की जाती है पर हर बार यह भर नही पाता | इसमे लाखो लीटर पानी डाला जाता है पर वो पानी कहाँ जाता है ,  आज तक पहेली बना हुआ है | लोगो की मान्यता है की इसमे जो पानी डाला जाता है वो राक्षस पी जाता है | घड़े को भरने की यह परम्परा पिछले 800 सालो से चली आ रही है |


shitala mata ka ghada

कब कब  भरा जाता है यह घड़ा :


इस शीतला माता के मंदिर में रखे घड़े को साल में २ बार भरने की कोशिश की जाती है  एक शीतला सप्तमी के दिन  और अन्य   ज्येष्ठ माह की पूणम  पर | इस दौहरान भक्त इस घड़े के दर्शन करते है और अपनी आँखों से यह चमत्कार होते देखते है |
लाखो टन पानी से भी नही भरता शीतला माता का घड़ा

इस घड़े का पानी कहाँ जाता है आजतक वैज्ञानिक भी इस रहस्य का पता नही लगा पाए है | पानी महिलाये कलश भर भर कर इस घड़े में डालती है |  अंत में जब पुजारी माँ शीतला के चरणों में दूध का भोग लगाकर इस घड़े में दूध का वो प्रसाद डालता है तब यह घड़ा चमत्कारी रूप से भर जाता है |

मान्यता के अनुसार राक्षस पीता है इस घड़े का पानी

ऐसा कहते है की शीतला माता ने एक राक्षस का वध किया था | मरते मरते राक्षस ने देवी शीतला से यही वरदान माँगा की उसे गर्मियों में बहुत प्यास लगती है अत: उसे ढेर सारा जल पिलाया जाये | तब ही से यह किवंदती फैली हुई है की यह घड़े में डाला हुआ पानी राक्षस पीता  है |
यह भी जरुर पढ़े :

इस नदी के किनारे बने है हजारो शिवलिंग

जल्द ही ऑनलाइन मिलने लगेगा गंगा जल

जाने मौत के देवता यमराज धर्मराज के बारे में

शनि देव का जुनि शनि मंदिर जहा होता है भगवान का दूध दही से अभिषेक

इंदौर के इस शनि मंदिर में होता है दूध दही से अभिषेक

मंदसौर का पशुपति नाथ शिवलिंग की महिमा

अलोपी शक्तिपीठ जहा ना कोई मूर्ति ना कोई तस्वीर बस होती है झूले पर रखे लाल कपडे की पूजा

पापमुक्ति का सर्टिफिकेट देने वाला शिवमंदिर

प्यार का भूत उतारता है यह हनुमान मंदिर

 

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.