शिवलिंग पर चढाते है झाड़ू

इस शिवलिंग पर झाड़ू चढ़ाई जाती है


एक ऐसा शिवलिंग जहा भक्त चढाते है झाड़ू और यह झाड़ू कर देती है उनके त्वचा के रोगों को खत्म |

कहाँ है यह शिवलिंग :

मुरादाबाद और आगरा  राजमार्ग पर  गाँव सदत्बदी में भोलेनाथ का एक प्राचीन मंदिर जो पातालेश्वर मंदिर के नाम से प्रसिद्द है | यहा पर स्थित है एक दिव्य शिवलिंग जिसपे झाड़ू चढाने से  त्वचा रोग ठीक हो जाते है | यह मंदिर अति प्राचीन है और यह परम्परा भी सदियों से चल रही है |

झाड़ू चढाने के पीछे की लोक कथा :

इस गावं में  एक भिखारीदास नाम का अमीर व्यापारी रहता था | एक बार वो त्वचा रोग से ग्रसित हो गया | नीम हकीम वैद भी उसे इस रोग से मुक्त नही करा पा रहे थे |


एक दिन वो किसी रास्ते से गुजर रहे थे और उन्हें प्यास लगी | पास ही किसी शिव के भक्त संत का आश्रम था | भिखारीदास जी आश्रम में पहुंचे और संत से पानी पिलाने को बोले | संत उस समय आश्रम की झाड़ू से सफाई कर रहे थे | सफाई करते करते उनकी झाड़ू व्यापारी को छु गयी | व्यापारी के शरीर में एक तरंग सी गयी और देखते ही देखते उनके त्वचा रोग ठीक हो गये | व्यापारी इस चमत्कार को देखकर संत के चरणों में पड़ गये और उन्हें धन दौलत से तोलने की बात करने लगे |

संत ने उन्हें समझाया की यह सब भोले बाबा की कृपा है और वे तो बस उनके दास है | यदि तुम कुछ करना चाहते हो तो बस इस आश्रम में शिव मंदिर बना दो | आदेश के अनुसार व्यापारी ने वहा शिव मंदिर का निर्माण किया |

व्यापारी के ठीक होने की खबर गावं में फ़ैल गयी और तब गावं वालो ने शिवलिंग पर झाड़ू चढ़ाना शुरू कर दिया |

इस चमत्कार के पीछे एक कहानी बताई जाती है कि गांव में कभी एक भिखारीदास नाम का एक व्यापारी रहता था, जो गांव का सबसे धनी व्यक्ति था और वह त्वचा रोग से ग्रसित था। उसके शरीर पर काले धब्बे पड़ गये थे, जिनसे उसे पीड़ा होती थी।

एक दिन वह निकट के गांव के एक वैद्य से उपचार कराने जा रहा था कि रास्ते में उसे जोर की प्यास लगी। तभी उसे एक आश्रम दिखाई पड़ा। जैसे ही भिखारीदास पानी पीने के लिए आश्रम के अंदर गया वैसे ही आश्रम की सफाई कर रहे महंत के झाड़ू से उसके शरीर का स्पर्श हो गया। झाड़ू के स्पर्श होने के क्षण भर के अंदर ही भिखारीदास का दर्द ठीक हो गया। जब भिखारीदास ने महंत से चमत्कार के बारे में पूछा तो उसने कहा कि वह भगवान शिव का प्रबल भक्त है। यह चमत्कार उन्हीं की वजह से हुआ है। भिखारीदास ने महंत से कहा कि उसे ठीक करने के बदले में सोने की अशर्फियों से भरी थैली स्वीकार करे। किन्तु महंत ने अशर्फी लेने से इंकार करते हुए कहा कि वास्तव में अगर वह कुछ लौटाना चाहते हैं तो आश्रम के स्थान पर शिव मंदिर का निर्माण करवा दें। कुछ समय बाद भिखारीदास ने वहां पर शिव मंदिर का निर्माण करवा दिया। धीरे-धीरे मान्यता हो गई कि इस मंदिर में दर्शन कर झाड़ू चढ़ाने से त्वचा के रोगों से मुक्ति मिल जाती है।


आज यहाँ इस तरह के हज़ारों लोग आते हैं जो त्वचा रोग से पीड़ित हैं और आसपास के लोग यह भी बताते हैं कि अधिकतर लोगों को यहाँ आने और झाड़ू चढ़ाने के बाद, इस रोग से मुक्ति भी मिलती है। लेकिन भगवान शिव की महिमा तो वैसे भी अपरम्पार है तो यहाँ लोग त्वचा रोग के अलावा, अपने और सभी दुःख भी लेकर आते हैं।

इस चमत्कारिक शिवलिंग में लाखों लोग सालभर में आते हैं और अपने दुखों से मुक्ति प्राप्त करते हैं।

यह भी जरुर पढ़े

क्यों लगाते है मंदिर में देवी देवताओ के चारो तरफ परिक्रमा

रामचरितमानस की मंगल भवन अमंगलहारी चौपाई

भूल से भी ना लगाई यह तस्वीरे घर में – वास्तुशास्त्र दोष

क्यों काम में लेते है पूजन क्रिया में चावल अक्षत

काल भैरव शिवजी का ही एक रूप

कैसे करे सुबह सूर्य की उपासना

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.